संदेश

कृषि मंत्री ने सुनी फरियादियों की फरियाद

चित्र
देवरियाः- कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, जिलाधिकारी जितेन्द्र प्रताप सिंह एवं पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा द्वारा सदर तहसील में आयोजित सम्पूर्ण समाधान दिवस में फरियादियों की समस्याओं को सुना गया और उसके त्वरित निस्तारण के निर्देश दिये गये। इस दौरान सदर तहसील में कुल 45 मामले आये जिनमें से 7 मामलों का मौके पर निस्तारण किया गया तथा शेष अन्य को संबंधित विभागो को समयबद्धता के साथ निस्तारित किये जाने के निर्देश के साथ सौंपा गया।         कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही फरियादियों की समस्याओं को गंभीरता पूर्वक सुना। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार आम जनता की समस्याओं के निराकरण के लिए प्रतिबद्ध है। संपूर्ण समाधान दिवस जन शिकायतों के निस्तारण का एक प्रमुख माध्यम है। संपूर्ण समाधान दिवस पर आम जनमानस अपनी समस्याओं के निराकरण के लिए आते हैं। जिन प्रकरणों का निराकरण प्रशासनिक हस्तक्षेप से संभव होता है, उनका तत्काल समाधान कराने का प्रयास किया जाता है। किंतु,  जिन प्रकरणों के लिए व्यापक जाँच की आवश्यकता होती है उन्हें समाधान के लिए संबंधित अधिकारी को अग्रसारित कर दिया जाता है। अधिकारियों को समयबद्धता एवं ग

यूपी बोर्ड में दसवीं और बारवीं के परीक्षा आवेदन की अन्तिम तिथि दस अक्टूबर

चित्र
उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की यूपी बोर्ड परीक्षा 2023 के लिए दसवीं और बारहवीं के विद्यार्थी अब 10 अक्टूबर तक आवेदन कर सकते हैं। परिषद ने नौवीं और ग्यारहवीं में अग्रिम पंजीकरण की तिथि भी बढ़ा दी है। यूपी बोर्ड ने तिथि बढ़ाने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा था। शासन की संस्तुति के बाद अब तिथि बढ़ाई गई है। यूपी बोर्ड के सचिव दिव्यकांत शुक्ल के मुताबिक अब 10 वीं और 12वीं के विद्यार्थी सौ रुपये विलंब शुल्क के साथ परीक्षा शुल्क चालान के माध्यम से कोषागार में जमा करने तथा जमा परीक्षा शुल्क की सूचना तथा शैक्षिक विवरण परिषद की वेबसाइट पर 10 अरक्तूबर तक ऑनलाइन अपलोड किया जा सकता है। संस्था के प्रधान 15 अक्तूबर तक पंजीकृत अभ्यर्थियों की फोटोयुक्त नामावली एवं कोषपत्र की एक प्रति परिषद के क्षेत्रीय कार्यालयों को भेजे जाने के लिए जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में जमा करा सकते हैं,साथ ही नौवीं और ग्यारहवीं में अग्रिम पंजीकरण की तिथि 10 अक्तूबर के लिए बढ़ा दी गई है। 10 अक्तूबर तक विद्यार्थियों के शुल्क और शैक्षिक विवरण परिषद की वेबसाइट पर ऑनलाइन अपलोड करना है। साथ ही 15 अक्तूबर तक प्रधानाचार्य

उत्तर प्रदेश में माता पिता के लिए बड़ी ख़बर

चित्र
देश में पांच वर्ष तक के बच्चों की मृत्यु दर में यूपी में सर्वाधिक कमी दर्ज की गई है। बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के दम पर नमूना पंजीकरण प्रणाली (एसआरएस) सांख्यिकी रिपोर्ट-2020 में यूपी का प्रदर्शन सर्वश्रेष्ठ है।एसआरएस रिपोर्ट 2019 के मुकाबले इस बार यूपी में काफी सुधार देखने को मिला है। देश में पांच वर्ष तक के बच्चों की मृत्यु दर में तीन अंक की कमी आई है तो यूपी में पांच अंक की गिरावट दर्ज की गई है। यही नहीं यूपी में एक साल से कम बच्चों की मृत्यु दर में तीन अंक की और 28 दिन तक के बच्चों की मृत्यु दर में दो अंक की कमी आई है। उधर प्रजनन दर में भी 0.2 प्रतिशत की कमी आई है। यानी जनसंख्या बढ़ने की रफ्तार कम हुई है। भारत के महापंजीयक द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार देश में वर्ष 2019 की एसआरएस रिपोर्ट के अनुसार पांच वर्ष तक के प्रति एक हजार बच्चों पर 35 बच्चों की मृत्यु हो रही थी और वर्ष 2020 की रिपोर्ट में यह प्रति एक हजार बच्चों पर घटकर 32 रह गई है। यानी मृत्यु दर में तीन अंक की कमी देखने को मिली। वहीं सर्वाधिक आबादी वाले राज्य यूपी में वर्ष 2019 की रिपोर्ट में पांच वर्ष तक के प्रति एक हजार बच्चों

किसानों ने पहचान कि मित्र कीट एवं शत्रु कीटों की

चित्र
उन्नाव: भारत सरकार के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के क्षेत्रीय  केन्द्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र, लखनऊ द्वारा दो दिवसीय आई. पी. एम. ओरिएंटेशन एच. आर. डी. कार्यक्रम का शुभारम्भ कृषि विज्ञान केंद्र, धौरा, उन्नाव में हुआ I रीजनल सेन्ट्रल आई. पी. एम. सेंटर के प्रभारी डॉ. ज्ञान प्रकाश सिंह तथा कृषि विज्ञान केंद्र, उन्नाव के प्रभारी एवं वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. ए. के. सिंह ने  दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया I लखनऊ स्थित केंद्र सरकार के रीजनल सेंटर के प्रभारी अधिकारी तथा उप निदेशक डॉ. ज्ञान प्रकाश सिंह ने आई . पी. एम. पर प्रशिक्षण प्राप्त करने हेतु आये हुए जनपद के प्रगतिशील किसानों को एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन की वर्तमान प्रासंगिकता तथा उपादेयता के बारे में बताया I डॉ. ज्ञान प्रकाश सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि किसानों द्वारा फसलों को कीट एवं बीमारियों  से बचाने  के लिए रासायनिक कीटनाशकों का अनुचित एवं अंधाधुंध प्रयोग किया जा रहा है I रासायनिक कीटनाशक हर किसी के स्वास्थ्य के साथ – साथ पर्यावरण के लिए भी बेहद नुकसानदेह है I इसलिए जरुरी है कि  कृषकों को प्रेरित किया जाये जिसस

सेन्सेक्स हुआ धड़ाम

चित्र
घरेलू बेंचमार्क इंडेक्स में हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन बड़ी गिरावट आई। बेंचमार्क में आई इस गिरावट के कारण निवेशकों को करीब चार लाख करोड़ रुपये का नुकसान सहना पड़ा है। बीएसई में लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप लुढ़क कर  277.58 लाख करोड़ रह गया है। शुक्रवार को बाजार बंद होते समय सेंसेक्स 1020.80 अंक लुढ़क कर 58,098.92 के लेवल पर पहुंच गया है। इसमें 1.73% की गिरावट आई। वहीं निफ्टी इंडेक्स में भी 302 अंकों की  गिरावट आई। यह फिसल कर 17327.35 अंकों पर क्लोज हुआ। सेक्टरवार बात करें तो निफ्टी मीडिया, निफ्टी फर्मा और निफ्टी मेटल में मामूली बढ़ दिखी। वहीं निफ्टी बैंक, निफ्टी रियल्टी, निफ्टी रियल्टी, निफ्टी एनर्जी इंडेक्स में तकरीबन एक प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली। टाटा स्टील, एचयूएल, इंफोसिस, एचसीएल टेक, टाइटन, आईटीसी, सन फार्मा के शेयर में मजबूती रही वहीं दूसरी ओर पावर ग्रिड, टेक महिंद्रा, एचडीएफसी ट्विंस के शेयरों, इंडसइंड बैंक, एक्सिस बैंक, कोटक बैंक और एनटीपीसी के शेयरों में बड़ी गिरावट दर्ज की गई।

बच्चों और महिलाओं के मामले में नही मिलेगी अग्रिम जमानत

चित्र
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महिलाओं एवं बच्चों के खिलाफ होने वाले अपराधों को लेकर बड़ा कदम उठाया है। राज्य सरकार ने जीरो टालेरेंस की नीति के तहत महिलाओं की सुरक्षा के प्रति संवेदनशीलता का परिचय देते हुए ऐसे घृणित अपराधों के प्रति कठोर कार्रवाई सुनिश्चित करेगी।  यूपी में अब महिलाओं व बच्चों के खिलाफ गंभीर अपराध के मामलों में आरोपियों को अग्रिम जमानत नहीं मिलेगी। योगी सरकार ने इसके लिए दंड प्रक्रिया संहिता में संशोधन कर दिया है। यूपी विधानसभा से मॉनसून सत्र के अंतिम दिन दंड प्रक्रिया संहिता (संशोधन) विधेयक 2022 ध्वनि मत से पारित हो गया है। अब दुष्कर्म व प्रोटेक्शन आफ चिल्ड्रेन फ्राम सेक्सुअल अफेंसेस एक्ट (पाक्सो) के मामलों में आराेपित को अग्रिम जमानत नहीं हासिल हो सकेगी। इस निर्णय से महिलाओं व बच्चों के न सिर्फ शरीर बल्कि उनकी आत्मा तक को गंभीर चोट पहुंचाने वाले अपराधियों का मनोबल तोड़ा जा सकेगा और पीड़ितों के मन में विधि व्यवस्था के प्रति अटूट विश्वास पैदा किया जा सकेगा.

डालर के मुकाबले रुपया हुआ धड़ाम

चित्र
अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट लगातार जारी है।शुक्रवार को रुपया कमजोर हाेते हुए अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है। शुक्रवार को शुरुआती सेशन में ही रुपया 39 पैसे की कमजोरी के साथ 81.81 के स्तर पर पहुंच गया। फिलहाल रुपया डॉलर के मुकाबले 80.99 के स्तर पर होल्ड कर रहा है। इससे पहले गुरुवार के कारोबारी सेशन में रुपया 83 पैसे की बड़ी गिरावट के साथ 80.79 के लेवल पर बंद हुआ था। रुपये में यह एक दिन में आई अब तक की सबसे बड़ी गिरावट थी। आइए जानते हैं कि हाल के दिनों में आखिर किस कारण रुपया नीचे फिसलता जा रहा है? आखिर क्या कारण है कि जो रुपया अब डॉलर के मुकाबले कमजोर होकर 81 रुपये के पर चला गया है?बाजार के जानकारों का मानना है कि बीते दो दिनों में डॉलर के मुकाबले रुपये के तेजी से कमजोर होने के दो सबसे अहम कारण हैं। पहला अमेरिकी फेडरल रिजर्व की ओर से ब्याज दरों में बढ़ोतरी करना है। फेड के इस फैसले से डॉलर इंडेक्स मजबूत हुआ है, जिस कारण रुपया पर दबाव बढ़ा वह पिछले कारोबारी दिन एक ही दिन में 83 पैसे फिसलकर 80.79 के लेवल पर पहुंच गया। शुक्रवार को भी फेड के फैसले का असर बाजार दिखा और र