झारखंड में पहला कोरोना चेंबर, मात्र 4 मिनट सभी तरह के जर्म्स का सफाया!

 


देश में मरीजों को देखते-देखते डॉक्टर और मेडिकल स्टॉफ भी कोरोना वायरस से इन्फेक्टेड हो रहे हैं. इसी से बचने के लिए झारखंड का पहला कोरोना चेंबर, जमशेदपुर के एक हॉस्पिटल में लगाया गया है जिसमें 4 मिनट रहने के बाद सभी तरह जर्म्स के मर जाते हैं और उसके बाद ही मरीज, डॉक्टर से मिल पाता है.


जमशेदपुर के सरकारी अस्पताल एमजीएम में झारखंड के पहले कोरोना चैंबर को लगाया गया है जहां 4 मिनट रहने के बाद हर तरह का जर्म्स मर जाता है इसको लगाने का मकसद सिर्फ इतना है कि कोई भी मरीज अगर हॉस्पिटल में आता है तो उसको इस से होकर गुजरना होगा. अगर उसको किसी भी प्रकार का कोरोना वायरस होगा तो स्वतः ही खत्म हो जाएगा. इस वजह से यदि वह कोराना संक्रमित भी हुआ तो वह इस संक्रमण को दूसरे को पास नहीं कर पाएगा.


यह पहला हॉस्पिटल है जिसमें इस तरह की व्यवस्था की है. डेढ़ लाख की लागत का यह चैंबर वायरस को खत्म करने, कोरेना से प्रभावित लोगों से दूसरों में संक्रमण ने फैले, इसके लिए लगाया गया है. इस चैंबर में तीन प्रकार के केमिकल का चैंबर से गुजरने वाले पर छिड़काव किया जाता है. इससे डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ अब संक्रमण से सुरक्षित हो सकते हैं.


इस चैंबर से होकर अब हर किसी को सोमवार सुबह से जाना होगा. उसके बाद 4 मिनट इसमें रुकना होगा जिससे उस इंसान के शरीर और कपड़ों पर मौजूद सभी जर्म्स मर जाएंगे.
इस चैंबर के बारे में डॉक्टर पीके सिन्हा ने बताया कि एमजीएम हॉस्पिटल में इस तरह का चैंबर लगाना काफी लाभदायक है. अब हर किसी की पूरी तरह स्क्रीनिंग होने के बाद ही हॉस्पिटल में एंट्री होगी.