उत्तर प्रदेश गोसेवा आयोग, गोमय के उत्पादों की खादी एवं ग्रामोद्योग के सहयोग से करेगा मार्केटिंग

 




उत्तर प्रदेश की गोशालाओं में निर्मित विभिन्न गोमय उत्पादों की मार्केटिंग हेतु उ0प्र0 गोसेवा आयोग के अध्यक्ष, श्याम नन्दन सिंह ने आज यहां अपने कार्यालय में खादी एवं ग्रामोद्योग, अपर मुख्य सचिव, डाॅ0 नवनीत सहगल के साथ बैठक की। बैठक में यह निर्णय लिया गया कि गोसेवा आयोग और खादी ग्रामोद्योग मिलकर गोमय एवं गोमूत्र से बने उत्पादों की मार्केटिंग बढ़ाने के लिए कार्य करेंगें।
अपर मुख्य सचिव, डाॅ0 नवनीत सहगल द्वारा गोमय उत्पादों की मार्केटिंग के संबंध में विस्तृत योजना तैयार करने के लिये उप मुख्य कार्यपालक अधिकारी, खादी एवं ग्रामोद्योग,श्री एस0के0 कक्कड़ को नामित किया गया। बैठक में गोसेवा आयोग के अधिकारियों के साथ गोमय के उत्पादों की मार्केटिंग के सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा हुई और यह भी निर्णय लिया गया कि गोमय उत्पादों के लिए खादी ग्रामोद्योग के साथ मिलकर प्रत्येक जनपद में एक प्रदर्शनी का आयोजन कराया जाये।
      गोसेवा आयोग के अध्यक्ष, श्याम नंदन सिंह ने कहा कि खादी ग्रामोद्योग के सहयोग से गोशालाओं की आमदनी बढ़ेगी और वे आत्मनिर्भता की ओर आगे बढ़ेंगी। उन्होंने अपर मुख्य सचिव डा0 सहगल को आयोग के सभाकक्ष में रखे हुये गोमय उत्पादों का अवलोकन भी कराया । उल्लेखनीय है कि  गोसेवा आयोग  द्वारा गोमय उत्पादों  को प्रोत्साहन देने का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। प्रदेश की  गोशालाओं व गो आश्रय स्थलों में बन रहे गोमय के उत्पादों के प्रति जागरूकता हेतु छोटी दीपावली के दिन आदि गंगा गोमती नदी के तट पर एक लाख गोबर के दियों से दीवाली का आयोजन उ0प्र0 गोसेवा आयोग द्वारा सफलतापूर्वक योगदान किया गया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सरकार ने जारी किया रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य