धान के किसान, रखें ध्यान

 लेखक-डॉ प्रदीप कुमार बिसेन वैज्ञानिक केवीके लखीमपुर खीरी-

100 किग्रा यूरिया, 50 Kg डीएपी , 40 किग्रा म्यूरेट ऑफ पोटाश, 10 किग्रा जिंक सल्फेट। धान की रोपाई के समय।50 किग्रा यूरिया, 50 किग्रा डीएपी, 40 किग्रा म्यूरेट ऑफ Potash ,10 Kg Zinc sulphate. धान की रोपाई के समय पोटाश  का प्रयोग एक दिन पहले करना चाहिए। यूरिया की शेष मात्रा को दो बराबर मात्रा में प्रयोग करना चाहिए.यदि पहले एफवाईएम का प्रयोग फसल के खेत में किया जाता है तो उर्वरक की मात्रा में पचास प्रतिशत तक की कटौती करें।यदि फसल में नकली स्मट लगा हो तो फसल के फूल आने के समय 1 मिली Propiconazole प्रति लीटर पानी की दर  छिड़काव करना चाहिए।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सरकार ने जारी किया रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य