वृक्षारोपण से, प्रदेश में बढ़ रहा है वनावरण

विश्व मेें सभ्यता के आरम्भ से ही प्रकृति और उसके विभिन्न स्वरूपों के नजदीक मानव का विकास हुआ है। इन्हीं के अन्तर्गत हमारे देश में भी मानव विकास नदियों, पर्वतों, पेड़-पौधों आदि के सानिध्य में हुआ है। वृक्ष हमारी धरती का श्रृंगार हैं। यह पर्यावरण को स्वच्छ करते हैं। इसीलिए वनों को धरती का फेफड़ा भी कहा गया है। वृक्ष अनेक प्रकार से हमारे लिए उपयोगी हैं। यह न केवल फल, फूल, लकड़ी, औषधि, खाद्य पदार्थों के óोत हैं बल्कि यह वातावरण से कार्बन डाई आक्साइड को अवशोषित कर ऑक्सीजन की सतत आपूर्ति से वातावरण को स्वच्छ भी करते रहते हैं। इसके साथ ही वन अनेक पक्षियों, कीड़े-मकोड़ों एवं अन्य जीव-जन्तुओं के लिए प्राकृतिक वासस्थल भी है। हमारे धर्मग्रन्थों में भी पीपल, बरगद, आंवला आदि अनेक वृक्षों की पूजा किये जाने के उल्लेख मिलते हैं। आज विज्ञान भी इसको सत्य सिद्ध करता है कि पीपल का वृक्ष दिन-रात आॅक्सीजन प्रदान करता है।

उत्तर प्रदेश की वर्तमान सरकार के मुखिया श्री योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में प्रदेश में वृक्षारोपण जनान्दोलन-2021 के अन्तर्गत प्रदेश में दिनांक 01 जुलाई, 2021 से 07 जुलाई, 2021 तक वन महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इसके अन्तर्गत प्रदेश के प्रत्येक जनपदों के प्रत्येक ग्राम पंचायत में वृक्षारोपण का वृहद कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी का कहना है कि पौधे भविष्य में वृक्ष बनकर प्रकृति के तंत्र को मजबूती प्रदान करने के साथ ही फल, छाया, औषधि, लकड़ी आदि उपलब्ध कराकर व्यक्ति की अनेक आवश्यकताओं की पूर्ति करते हैं। इस अभियान के अन्तर्गत वर्ष 2021-22 में 30 करोड़ से अधिक पौधों का रोपण कराया जाना है जबकि दिंनाक 04 जुलाई 2021 को एक दिन में ही 25 करोड़ से अधिक पौधों का रोपण किया जा चुका है। मुख्यमंत्री जी द्वारा जनपद सुल्तानपुर में दिनांक 04 जुलाई, 2021 को वृक्षारोपण जनान्दोलन 2021 के अन्तर्गत ग्रीनफील्ड पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर वृक्षारोपण कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया है। मुख्यमंत्री जी ने पीपल, पाकड़, बरगद, आंवला, गूलर व जामुन के पौधों का रोपण किया। वृक्षारोपण महा अभियान के अन्तर्गत 04 जुलाई को वर्तमान राज्य सरकार के कार्यकाल में 100 करोड़ से अधिक पौधे लगाने का रिकार्ड भी बना है। वर्तमान राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व, निर्देशन में वर्ष 2017-18 में 5.71 करोड़, वर्ष 2018-19 में 11.77 करोड़, वर्ष 2019-20 में 22.60 करोड़, वर्ष 2021-21 में 25.87 करोड़ पौधों का रोपण कराया गया है। साथ ही 05 करोड़ पौधों का रोपण किसानों व अन्य प्रदेशवासियों द्वारा कराया गया है। प्रदेश में वर्ष 2021-22 में अब तक लगाये जा चुके पौधों को मिलाकर 100 करोड़ से भी ज्यादा पौधे अब तक लगाये जा चुके हैं।
पेड़-पौधों का पर्यावरणीय, सामाजिक, सांस्कृतिक महत्व स्थापित करते हुए मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा प्रदेश में 100 वर्ष से अधिक पुराने वृक्षों को हेरिटेज वृक्ष की मान्यता दी जा रही है। ग्रीनफील्ड पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के किनारे यूपीडा द्वारा प्राचीन वटवृक्ष का संरक्षण किया गया है। इसे हेरिटेज वृक्ष की मान्यता दी गयी है। प्रकृति व पर्यावरण में बेहतर समन्वय से हेरिटेज वृक्ष की यह धारणा वृक्षों के प्रति हमारी नव पीढ़ी को भी प्रेरित करेगी।
वन महोत्सव के द्वारा वर्तमान प्रदेश सरकार एक बहुत सार्थक व उपयोगी कार्य कर रही है जो न केवल प्रदेश की जनता के लिए उपयोगी है बल्कि प्रदेश में वृक्षावरण व वनावरण का प्रतिशत बढ़ाकर यह हमारे वातावरण-पर्यावरण को भी स्वच्छ बनाने में योगदान दे रहा है। मुख्यमंत्री जी का यह प्रयास प्रदेश को एक नई ऊंचाई प्रदान कर रहा है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सरकार ने जारी किया रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य