स्नातक द्वितीय वर्ष तथा परास्नातक द्वितीय वर्ष की कक्षाएं एवं पठन-पाठन 16 अगस्त 2021 से होगी प्रारम्भ

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा ने विद्यालयों को भौतिक रूप से (ऑफलाइन) खोले जाने के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि माननीय मुख्यमंत्री जी के साथ उच्च स्तरीय बैठक के बाद निर्णय लिया गया है कि प्रदेश में संचालित समस्त शिक्षा बोर्डों के कक्षा 09 से 12 तक के समस्त विद्यालयों को आगामी 15 अगस्त से खोल दिया जाएगा तथा विद्यालयों में 16 अगस्त से शिक्षण कार्य भौतिक रूप से प्रारंभ कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि आगामी 05 अगस्त से माध्यमिक विद्यालयों में प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ किए जाने का निर्णय लिया गया है।  

     उपमुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार के लिए बच्चों एवं शिक्षकों का स्वास्थ्य सर्वाेपरि है। उन्होंने बताया कि छात्रहित, सत्र को नियमित करने एवं छात्रों के शिक्षण कार्य सुनिश्चित कराए जाने हेतु बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु जारी गाइडलाइन का अक्षरशः पालन सुनिश्चित कराते हुए कक्षा 09 से 12 तक के विद्यालयों को आगामी 15 अगस्त से खोले जाने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि विद्यालयों को दो पालियों में प्रातः 08.00 से 12.00 बजे तक एवं अपराहन 12ः30 बजे से 4ः30 बजे तक खोले जाने का निर्णय लिया गया है। 50 प्रतिशत विद्यार्थियों को प्रथम पाली में तथा शेष 50 प्रतिशत विद्यार्थियों को दूसरी पाली में विद्यालय बुलाया जाएगा।
      उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने इसके साथ ही उच्च शिक्षा विभाग के अधीन शिक्षण संस्थानों में भौतिक रूप से पठन-पाठन का कार्य प्रारंभ किए जाने के संबंध में बताया कि विश्वविद्यालयों तथा महाविद्यालय में स्नातक प्रथम वर्ष के छात्रों तथा स्नातकोत्तर प्रथम वर्ष के छात्रों को प्रोन्नत किया गया है अतः स्नातक द्वितीय वर्ष तथा परास्नातक द्वितीय वर्ष के छात्रों हेतु उच्च शिक्षण संस्थान भौतिक रूप से 15 अगस्त 2021 से खोल दिया जाएगा तथा 16 अगस्त 2021 से नियमित कक्षाएं एवं पठन-पाठन का कार्य भौतिक रूप से आरंभ किया जाएगा।
       उपमुख्यमंत्री ने बताया कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा 12वीं कक्षा का परिणाम घोषित किया जा चुका है। जो विश्वविद्यालय/ महाविद्यालय 12वीं की परीक्षा के परिणाम के आधार पर प्रवेश लेते हैं उन संस्थानों में स्नातक प्रथम वर्ष का पठन-पाठन कार्य 01 सितंबर 2021 से प्रारंभ किया जाएगा, इसके लिए प्रवेश प्रक्रिया 05 अगस्त 2021 से प्रारंभ किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अतिरिक्त जिन संस्थानों में प्रवेश परीक्षा के आधार पर प्रवेश लिया जाना है उनमें स्नातक प्रथम वर्ष की कक्षाएं 13 सितंबर से आरंभ की जा सकती हैं।
     उपमुख्यमंत्री ने बताया कि स्नातक द्वितीय वर्ष के जिन छात्रों की वर्ष 2020दृ21 में परीक्षा ली गई है उनका परिणाम 31 अगस्त तक घोषित कर दिया जाएगा। अतः स्नातक तृतीय वर्ष के ऐसे छात्रों की कक्षाएं 13 सितंबर 2021 से आरंभ की जाएंगी। इसी प्रकार स्नातक तृतीय वर्ष का परिणाम भी 31 अगस्त तक घोषित होगा अतः परास्नातक प्रथम वर्ष की कक्षाएं 13 सितंबर 2021 से आरंभ की जाएंगी। उन्होंने बताया कि शनिवार एवं रविवार को कोरोना कर्फ्यू होने के कारण विश्वविद्यालय/ महाविद्यालय/शिक्षण संस्थान शिक्षण कार्य हेतु सोमवार से शुक्रवार तक ही संचालित किए जाएंगे।
       उपमुख्यमंत्री ने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु शिक्षण संस्थानों में सेनेटाइजर, हैंडवॉश, थर्मल स्कैनिंग, पल्स ऑक्सीमीटर एवं प्रारंभिक उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने का निर्देश दिया गया है यदि किसी छात्र और शिक्षक या अन्य कर्मी को खांसी, जुकाम या बुखार के लक्षण हो तो उन्हें प्राथमिक उपचार देते हुए घर वापस भेजे जाने के निर्देश दिए गए हैं।