मल्टीग्रेन आटा आदि पर 25 प्रतिशत छूट

प्रदेश में जैविक उत्पादों के विपणन/प्रोत्साहन हेतु उ0प्र0 राज्य औद्यानिक सहकारी विपणन संघ (हाफेड), हाफेड एवं सीड सस्टेनेबिलिटी बायो एनर्जी फारमर प्रोड्यूसर कम्पनी, हमीरपुर द्वारा संयुक्त रूप से प्रथम जैविक उत्पादक बिक्रय केन्द्र का शुभारंभ उद्यान भवन, लखनऊ में डॉ० राधेश्याम दीक्षित द्वारा आज किया गया है। बिक्रय केन्द्र पर जैविक खाद्य पदार्थों के गुणवत्तायुक्त उत्पादन एवं विपणन के संबंध में जानकारी प्रदान की गयी, जिसमें कठिया आटा, हाई फाईवर आटा, मल्टीग्रेन आटा, शहद, च्यवनप्राश, मोरिंगा तथा सब्जी/फल आम जनमानस के उपयोगार्थ 25  प्रतिशत छूट पर बिक्रय किया जा रहा है।

कार्यक्रम में प्रबन्ध निदेशक श्री अंजनी कुमार श्रीवास्तव हाफेड द्वारा प्रदेश में जैविक उत्पादों के विपणन/प्रोत्साहन हेतु सीड सस्टेनेबिलिटी बायो एनर्जी फारमर प्रोड्यूसर कम्पनी, हमीरपुर को पूर्ण सहयोग प्रदान किये जाने का आश्वासन दिया गया। इनके द्वारा बताया गया कि हाफेड द्वारा अपने गठन काल से निरन्तर औद्यानिक उत्पादों के गुणवत्तायुक्त उत्पादन विपणन/निर्यात हेतु प्रयासरत है। इससे लखनऊ जनपद के साथ-साथ अन्य जनपदों के उपभोक्ताओं को गुणवत्तायुक्त जैविक उत्पाद उचित मूल्य पर सुलभ हो सकेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश के अन्य जनपदों में भी जैविक उत्पाद बिक्रय केन्द्र संचालित किये जायेंगे। इससे प्रदेश में जैविक उत्पादन के प्रति कृषकों में रूचि उत्पन्न होगी तथा प्रदेश में रसायन रहित कृषि को प्रोत्साहन प्राप्त हो सकेगा तथा स्वास्थ्य के दृष्टि से गुणवत्तायुक्त जैविक उत्पाद सुलभ हो सकेगा।
श्री श्रीवास्तव ने कहा कि हाफेड द्वारा औद्यानिक उत्पादों के गुणवत्तायुक्त उत्पादन विपणन/निर्यात को प्रोत्साहित करने हेतु विविध क्रियाकलाप यथा-प्रशिक्षण, बायर सेलर मीट आदि कार्यक्रम आयोजित कराया जा रहा है। कार्यक्रम में अन्य उपस्थित वक्ताओं द्वारा भी जैविक उत्पाद पर प्रकाश डाला गया।
कार्यक्रम में डॉ0 आर0के0 पाठक (पूर्व निदेशक, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण) , डॉ0 आर0के0 तोमर, निदेशक, उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण, डॉ0 रविकान्त पाठक, श्री शिव विजय सिंह एवं श्री हर्ष मिश्रा, सीड सस्टेनेबिलिटी बायो एनर्जी फारमर प्रोड्यूसर कम्पनी, हाफेड के श्री राजदेव राम, सहायक प्रबन्धक भी उपस्थित रहें।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सीतापुर में 19 शिक्षक, शिक्षिकायें बर्खास्त