ईट राइट अभियान में उत्तर प्रदेश का सर्वोच्च स्थान

प्रदेश में खाद सुरक्षा औषधि प्रशासन विभाग द्वारा ईट राइट, ईट सेफ, ईट सस्टेनेबली के संबंध में नवंबर माह में 10 दिवसीय विशिष्ट अभियान चलाया गया। डॉ अनिता भटनागर जैन, अपर मुख्य सचिव, खाद्य सुरक्षा औषधि प्रशासन विभाग द्वारा अवगत कराया गया कि इस अभियान की सफलता हेतु व दूरगामी प्रभाव हेतु शासन स्तर से इसमें इंटरएक्टिव सेशन के लिए स्टैंडर्ड टॉकिंग पॉइंट बनाए गए। इन टॉकिंग पॉइंट में एफएसएआई द्वारा निर्मित लघु फिल्म भी अलग-अलग स्थानों पर सम्मिलित की गई। इन लघु फिल्मों में फिल्म अभिनेता राजकुमार राव, अभिनेत्री साक्षी तंवर व प्रख्यात क्रिकेटर विराट कोहली हैं। स्टैण्डर्डाइज करने के फल स्वरुप सभी स्थानों पर विद्यार्थियों को जागरूक करने में एकरूपता हुई व विभाग के सभी अभिहित अधिकारियों व खाद्य सुरक्षा अधिकारियों ने स्वयं विद्यार्थियों को संबोधित किया। कार्यक्रम की यह भी विशेषता रही कि इसमें सम्बन्धित विद्यार्थियों हेतु 3 प्रतिज्ञायें लेने के लिये सम्मिलित की गयीः-

1- थोड़ा कम नमक, तेल, चीनी लेने की। 

2- केवल उतना खाना लेने कि जितना खाया जा सके और वेस्ट न हो। 

3- ग्लास में केवल उतना पानी लें जितना पानी पिया जा सके और व्यर्थ न किया जाये। 

दूरगामी प्रभाव हेतु यह भी सुनिश्चिित किया गया कि जिन विद्यालयों में यह कार्यक्रम आयोजित किये गये उनमें प्रत्येक सप्ताह एक असेम्बली ईट राइट, ईट सेफ, ईट सस्टेनेबिली के बिन्दुओं पर की जाये।

इस अभियान में 2537347 विद्यार्थियों को जागरूक किया गया, जिसमें 1348103 (53) छात्र व 1189540(47) छात्राएँ सम्मिलित थीं। एफ0 एस0 एस0 ए0आई के अनुसार उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य है, जिसमें इस प्रकार का विशिष्ट अभियान चलाया गया तथा जिसमें प्रदेश की उपलब्धि के आँकड़े देश में सर्वाधिक है। अन्य राज्यों में विभिन्न कार्यक्रमों को सम्मिलित करते हुये उत्तर प्रदेश सहित संख्या 12 लाख है, जबकि उत्तर प्रदेश में केवल ईट राइट में ही उपलब्धता 2537347 है।

कार्यक्रम की शासन स्तर पर जनपदवार दैनिक समीक्षा की गयी और जिलाधिकारियों, अभिहित अधिकारियों व खाद्य सुरक्षा अधिकारियों के सम्मिलित प्रयासों के फलस्वरुप यह विशिष्ट उपलब्धता सम्भव हो पायी। इस अभियान के अन्तर्गत प्रथम 10 जनपदों को प्रशंसा पत्र प्रदान किये गये, जो निम्नवत् हैं-

1.वाराणसी 2. कुशीनगर 3. हरदोई 4. मुजफ्फरनगर 5. जौनपुर 6. आजमगढ 7. हापुड़ 8. आगरा 9. बुलन्दशहर 10. गोरखपुर। 

एफ0एस0एस0ए0आई0 द्वारा उत्तर प्रदेश में चलाये गये इस महत्वपूर्ण प्रयास की अतुलनीय उपलब्धता के लिये राष्ट्रीय स्तर की कार्यशाला में अनुभव साझा करने के लिये अपर मुख्य सचिव, खाद्य सुरक्षा औषधि प्रशासन, उत्तर प्रदेश को दिनांक 28.11.2019 को निमंत्रित किया गया है। इस अभियान के तहत बालिकाओं के विद्यालयों को अवश्य सम्मिलित करने हेतु भी निर्देश दिये गये थे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान