प्रदेश  की 08 प्रमुख नदियों के बेसिन वार प्लान  हेतु समिति गठित


 

जल शक्ति विभाग के अन्तर्गत सिंचाई विभाग के राज्य जल संसाधन अभिकरण (स्वारा) द्वारा प्रदेश की 08 मुख्य नदियों का बेसिन प्लान तैयार किया जा रहा है। यह जानकारी देते हुए सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के प्रमुख सचिव श्री टी0 वेंकटेश ने बताया कि इस प्लान के अन्तर्गत वर्तमान परिदृश्य के साथ-साथ आगामी 30 वर्षो की जल उपलब्धता, आवश्यकता एवं आवश्यक उपलब्धता के अन्तर की कार्य-योजना की समावेश किया जाना है। इस हेतु गोमती रिवर बेसिन प्लान पर स्वीकृति प्रदान करने के लिये मुख्य सचिव उ0प्र0 की अध्यक्षता में समिति का गठन शासन के कार्यालय ज्ञाप संख्या-1770/19-27-सिं0-4-62(डब्लू)/19, दिनांक 08 जुलाई, 2019 द्वारा किया गया है। शेष 07 मुख्य नदियों घाघरा, राप्ती, गण्ड़क, रामगंगा, गंगा, यमुना एवं सोन के रिवर बेसिन प्लान पर स्वीकृति  हेतु पूर्ववत मुख्य सचिव की अध्यक्षता में समिति का गठन कार्यालय ज्ञाप संख्या- 211/2019/4225/19-27-सिं0-4-62(डब्लू)/19, लखनऊ दिनांक 22 नवम्बर, 2019 द्वारा किया गया है।

समिति के पदाधिकारियों का ब्यौरा देते हुए प्रमुख सचिव सिंचाई ने बताया कि मुख्य सचिव उ0प्र0 की अध्यक्षता में गठित इस समिति में प्रमुख सचिव सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग, अपरमुख्य सचिव/प्रमुख सचिव, कृषि विभाग, प्रमुख सचिव लघु सिंचाई एवं भूगर्भ जल, प्रमुख सचिव नगर विकास विभाग, प्रमुख सचिव वन एवं पर्यावरण विभाग, प्रमुख सचिव/सचिव एम0एस0एम0ई0 एवं निर्यात प्रोत्साहन विभाग, अपर मुख्य सचिव/सचिव ऊर्जा विभाग, प्रमुख सचिव पशुपालन विभाग, प्रमुख अभियन्ता एवं विभागाध्यक्ष सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग सदस्य नामित किये गये है तथा मुख्य अभियन्ता (जल संसाधन) सिंचाई विभाग, उ0प्र0 को सदस्य/संयोजक बनाया गया है।

प्रमुख सचिव सिंचाई के अनुसार सदस्य संयोजक उक्त नदियों के रिवर बेसिन प्लान पर स्वीकृति प्राप्त करने हेतु समय-समय पर मुख्य सचिव उ0प्र0 की अध्यक्षता में आहूत की जाने वाली बैठकों की तैयारी तथा बैठकों हेतु तिथि, समय एवं स्थान नियत कराते हुए सभी संबंधित को सूचना उपलब्ध कराये जाने विषयक आदि सभी कार्यवाही सुनिश्चित करेगें।