रबी की  करने से पहले भूमि व बीज शोधन का सुझाव


 किसानों को सुझाव दिया है कि  रबी फसलों को भूमि एवं बीज जनित रोग-कीटों से बचाने के लिए बुवाई से पूर्व बीजोपचार व बीज शोधन आवश्यक है, जिसके लिए रसायनों का प्रयोग कर सकते है। उन्होंने रसायनों की जानकारी देते हुए बताया कि गेहॅूं के लिए थीरम 75 प्रतिशत डब्लू0एस0 2.5 ग्राम प्रति किलोग्राम, कार्वेन्डाजिम 50 प्रतिशत डब्लू0पी0 2.0 ग्राम प्रति किलोग्राम, चना के लिए ट्राइकोडर्मा हारजेनियम 2 प्रतिशत डब्लू0पी0 5 ग्राम प्रति किलोग्राम, थीरम 75 प्रतिशत डी0एस0डब्लू0 एस0कार्बेन्डाजिम 50 प्रतिशत डब्लू0पी0 3 ग्राम प्रति किलोग्राम, मटर के लिए ट्राइकोडर्मा हारजेनियम 2 प्रतिशत डब्लू0एस0 5 ग्राम प्रति किलोग्राम, बीज की दर से उपचारित करना चाहिए। आलू के लिए कार्बाक्सिन 37.5$थीरम 37.5 प्रतिशत डब्लू0एस0 250 ग्राम100 लीटर पानी में घोल बनाकर बीज को उपचारित कर सकते हैं।  



भूमि शोधन हेतु बवेरिया बैसियाना 2.5 किलोग्राम या ट्राइकोडर्मा हारजेनियम 2 किलोग्राम डब्लू0पी0 2.5-3 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर 100 किलोग्राम गोबर की खाद में मिलाकर एक सप्ताह के लिए जूट के बोरे से ढक दें उसके उपरान्त बुवाई के समय खेत में डालें।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान