यूरिया और किसान खाद में अंतर


किसान खाद के अन्दर उपस्थित नाइट्रोजन की आधी मात्रा अमोनिया तथा आधी मात्रा नाइट्रेट रूप में होती है जबकि यूरिया में नाइट्रोजन रूप में होती है, जो बाद में रूपान्तरित होकर पहले अमोनियम तथा फिर नाइट्रेट में बदलती है। मृदा के अन्दर किसान खाद की प्रतिक्रिया उदासीन तथा यूरिया की आरम्भ में क्षारीय तथा बाद में अम्लीय हो जाती है। किसान खाद में नाइट्रोजन के अलावा 9.1 प्रतिशत कैल्शियम भी होता है। यूरिया में नाइट्रोजन 46 प्रतिशत होती है जबकि किसान खाद में 25 प्रतिशत या 26 प्रतिशत तक।


खड़ी फसल में यूरिया का प्रयोग 


खड़ी फसल की आयु, अवस्था तथा प्रकार के अनुसार 2 -3 प्रतिशत यूरिया के घोल का छिड़काव किया जाता है। घोल की मात्रा का निर्धारण फसल की वानस्पतिक वृद्धि तथा छिड़कने वाले यंत्र पर निर्भर करेगा। खाद्यान की फसलों पर हसतचलित यंत्र से छिड़काव करने के लिए 200–300 लीटर घोल प्रर्याप्त होता है। यदि 2 प्रतिशत का 250 लीटर घोल छिड़कना हो तो 5 किलो यूरिया को 10–15 लीटर पानी में पहले अच्छी तरह से घोलकर, फिर आयतन 250 लीटर स्वच्छ पानी द्वारा बना लें। फिर जब आकाश साफ हो, ओस सूख गयी हो,हवा का दबाव कम हो तथा वर्षा का कोई आसार ना हों तो छिड़काव कर देना चाहिए। फिर आवश्यकतानुसार 2-3 छिड़काव 12-15 दिन के अन्तराल पर करके पूरा लाभ उठाया जा सकता है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान