प्रमुख नदियों के बंधों के ड्रेजिंग का कार्य र्पूर्ण


 

      सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग द्वारा प्रदेश की प्रमुख नदियों पर निर्मित बंधों के बचाव के लिए गोण्डा, बस्ती, गोरखपुर, बलरामपुर, कुशीनगर जनपदों में कुल 09 स्थानों पर 57 किमी0 ड्रेजिंग का कार्य करके बंधों को सुरक्षित किया गया। ड्रेजिंग एवं नदियों के चैनलाइजेशन से बांधों पर दबाव कम हुआ है और बाढ़ की विभीषिका से बंधों को बचाने में सफलता प्राप्त हुई है।

सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार घाघरा नदी पर स्थित एल्गिन, कटारिया, कलवारी, रामपुर, खड़गपुर, शाहपुर, सोपोइ, राप्ती नदी पर स्थित चंदापुर नरायनपुर, गुर्रा नदी पर स्थित भगने, बूढ़ी गण्डक नदी पर स्थित ए0पी0 तटबंध (के0एस0एस0), राप्ती नदी पर निर्मित लहसड़ी बंध तथा सरयू नदी पर स्थित अयोध्या, गुप्तार घाट से गोला बंध को सुरक्षित किया गया।

तटबंधों के बचाव के लिए जनपद गोण्डा में 15 किमी0, बस्ती 10 किमी0, बस्ती 07 किमी0, गोरखपुर 4.5 किमी0, बलरामपुर 5.50 किमी0, गोरखपुर 1.50 किमी0, कुशीनगर 

2.50 किमी0, गाोरखपुर 2.50 किमी0 तथा अयोध्या 8.50 किमी0 ड्रेजिंग कार्य कराया गया। विगत 02 वर्षों में ड्रेजिंग कार्य पर लगभग 70 करोड़ रुपये की धनराशि व्यय की गई।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान