किसान मेले में शिविर लगाकर किया गया पशुओ का बांझपन निवारण

 



कृषि विज्ञान केन्द्र, भाकृअनुप-भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान, लखनऊ द्वारा आज दिनांक 18 फरवरी, 2020 को ग्राम-इस्माइलनगर, लखनऊ में एक पशु बांझपन निवारण शिविर एवं किसान मेले का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में विभिन्न ग्रामों के 365 पशुपालकों ने सहभागिता की इस शिविर का मुख्य उद्देश्य पशुधन की उत्पादकता में वृद्धि कर कृषकों की आय को दोगुना करना है।


                पशु बांझपन निवारण शिविर का उद्घाटन मुख्य अतिथि श्री उमेश सिंह, तोमर, चेयरमैन, दुग्ध संघ, लखनऊ मंडल द्वारा किया गया। भाकृअनुप- भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान के निदेशक, डा. अश्विनी दत्त पाठक ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। शिविर में डा. विनोद कुमार उत्तम, पशु चिकित्सक के दल द्वारा सभी पशुओं का चिकित्सीय परीक्षण किया गया।  तदोपरांत पशुपालकों को खनिज लवण मिश्रिण, अंतः जीवी कीट निवारण एवं वाह्य परजीवी की दवायें नि:शुल्क वितरित की गयीं।


                डा. राकेश कुमार सिंह द्वारा पशुओं में बांझपन के कारण एवं निवारण विषय पर पशुपालकों के साथ चर्चा करते हुए बताया कि बांझपन की समस्या का मुख्य कारण पशुओं को संतुलित आहार के साथ-साथ उनके आहार में नमक का न मिल पाना एवं वर्ष-पर्यंत हरे चारे की कमी मुख्य वजह है।  यदि पशुपालक खनिज लवण मिश्रण का प्रतिदिन 50 ग्राम निरन्तर प्रयोग करते रहें तो बांझपन की समस्या से काफी हद तक छुटकारा पाया जा सकता है।


      डा. अखिलेश कुमार दुबे, अध्यक्ष, कृषि विज्ञान केन्द्र, लखनऊ द्वारा कृषकों को पशुधन के महत्व के बारे में समझाते हुये बताया कि कैसे पशुपालक पशुधन से अपनी आय को दोगुनी कर सकते हैं?


                डा. एस.एन. सिंह, नोडल अधिकारी, कृषि विज्ञान केन्द्र ने पशुपालकों से उनकी समस्याओं के विषय में जानकर उनके निवारण हेतु आवश्यक सुझाव  देते हुए पशुपालकों से पशुपालक केन्द्र के साथ-साथ राज्य सरकार द्वारा चलायी जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ प्राप्त करने का आह्वान किया।