ड्रिप एवं स्प्रिंकलर से संचालित माइक्रोइरीगेशन पद्धति योजना का नोडल होगा उद्यान विभाग !

उत्तर प्रदेश सरकार ने ड्रिप एवं स्प्रिंकलर से संचालित माइक्रोइरीगेशन पद्धति योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वयन हेतु उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग को नोडल विभाग नामित किया गया है। 

इस सम्बंध में आवश्यक शासनादेश उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग के प्रमुख सचिव श्री बी0एल0मीणा की ओर से जारी किए गए हैं। शासनादेश के अनुसार प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के अंतर्गत ड्राप-मोर-क्राप योजना स्प्रिंकलर के माध्यम से ड्रिप सिंचाई हेतु कृषि सिंचाई, लघु सिंचाई, चीनी उद्योग, गन्ना विभाग तथा उद्यान विभाग में योजनाएं संचालित है। 

शासनादेश के अनुसार मुख्यमंत्री की अपेक्षानुसार सभी ड्रिप/स्प्रिंकलर से सम्बंधित कार्यक्रम समेकित रूप से संचालित करने का कार्य उद्यान विभाग द्वारा किया जायेगा। इस प्रकार सभी योजनाए, जो विभिन्न विभागों द्वारा क्रियान्वित की जा रही है। इनका संचालन भविष्य में उद्यान विभाग के दिशा निर्देशों के अनुसार ही होगा। 

शासनादेश के अनुसार कृषि, सिंचाई, लघु सिंचाई, चीनी उद्योग एवं गन्ना उद्योग विभाग द्वारा अनुदान आधारित आदि किसी अन्य योजना चाहे वह योजना भारत सरकार, राज्य सरकार अथवा अन्य के माध्यम से संचालित की जाती है, तो इस सम्बन्ध में नोडल विभाग/उद्यान विभाग से परामर्श किया जाना अनिवार्य होगा। भविष्य में सभी सम्बन्धित विभाग प्रतिमाह अगर इस विषयक कोई योजना उनके द्वारा चलाई जा रही हो, तो उसका विवरण उद्यान विभाग को अवगत कराना आवश्यक होगा।