16 सम्भागों (जनपदों) के 18105 व्यक्तियों के खाते में 1000 रूपये की धनराशि की किश्त की जा रही है  प्रेषित !


प्रदेश के निदेशक मण्डी परिषद जितेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि  कोरोना संकट के दौरान नगरीय क्षेत्र में दैनिक रूप से मजदूरी करने वाले व्यक्तियों को जीवन यापन के लिए धनराशि उपलब्ध कराने के लिए उत्तर प्रदेश शासन द्वारा पटरी दुकानदारों, रिक्शा चालकों आदि के साथ मण्डियों में पल्लेदारी का कार्य करने वाले एवं ठेलिया चलाने वाले व्यक्तियों को भी चिन्हित करने के निर्देश दिये गये थे। जिसके क्रम में मण्डी परिषद द्वारा सम्बन्धित श्रेणी के व्यक्तियों के आय के सीमित संशाधनों के दृष्टिगत प्राथमिकता पर अभियान चलाकर ऐसे व्यक्तियों को चिन्हित किया गया जो इस संकट की अवधि में अल्प आय पर निर्भर है।


श्री जितेन्द्र सिंह ने बताया कि मण्डी परिषद के सभी 16 सम्भागों के सम्भागीय अधिकारियों एवं मण्डी सचिवों द्वारा विशेष रूचि लेकर 18000 से अधिक व्यक्तियों के नाम, मोबाइल नम्बर, बैंक डिटेल्स, आधार नम्बर आदि एकत्रित किये गये और सम्बन्धित मण्डी समितियों, नगर पालिकाओं व नगर पंचायत अधिशासी अधिकारियों को सम्पूर्ण विवरण उपलब्ध कराया गया।  जिसमें जनपद झांसी में 2247 पल्लेदार, 113 तोलक,  जनपद बस्ती में 846 पल्लेदार, 105 तोलक,  जनपद मिर्जापुर में 190 पल्लेदार, 35 तोलक,  जनपद मुरादाबाद  में 1472 पल्लेदार, 152 तोलक,  जनपद प्रयागराज में 1584 पल्लेदार, जनपद अलीगढ़ में 1168 पल्लेदार, 03 तोलक, जनपद वाराणसी में 729 पल्लेदार, 4  तोलक,  जनपद आगरा में 1194 पल्लेदार, जनपद कानपुर में 2640 पल्लेदार, 142 तोलक,   जनपद बरेली में 949 पल्लेदार, जनपद आजमगढ़ में 43 पल्लेदार, 15 तोलक, जनपद गोरखपुर  में 924 पल्लेदार, 2 तोलक,  जनपद अयोध्या में 445 पल्लेदार, 28 तोलक,   जनपद लखनऊ में 1399 पल्लेदार, 19 तोलक,  जनपद मेरठ में 991 पल्लेदार, 68 तोलक तथा जनपद सहारनपुर में 598 पल्लेदार इस प्रकार कुल 1749 पल्लेदार, 686 तोलक मिलाकर कुल 18105 व्यक्तियों के खाते में शासन की योजना अनुसार 1000 रूपये की धनराशि की किश्त नगर विकास विभाग के निर्देशन में प्रेषित की जा रही है।  इस अवसर पर मण्डी परिषद के अपर निदेशक कुमार विनीत सहित वरिष्ठ अधिकारी उपपस्थित थे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सरकार ने जारी किया रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य