गन्ना विकास विभाग ने अब तक 1137 गांवों 64 कस्बों तथा 623 सार्वजानिक कार्यालयों को किया सेनिटाइज !


प्रदेश के मा. मुख्य मंत्री, योगी आदित्यनाथ द्वारा वैश्विक महामारी कोरोना के प्रदेश तथा देश में सामुदायिक प्रसार को रोकने व इस महामारी को समूल रूप से नष्ट करने के संकल्प एवं निर्देशों के क्रम में द्वारा प्रदेश के समस्त गन्ना परिक्षेत्रों में सेनिटाइजेशन कराने के निर्देश दिए गए हैं।


उक्त के क्रम में प्रदेश के आयुक्त, गन्ना एंव चीनी,उद्योग श्री संजय आर. भूसरेड्डी ने समस्त गन्ना परिक्षेत्रों में स्थित चीनी मिलों के माध्यम से उनके निकटवर्ती सभी सार्वजनिक कार्यालयों, जिला सीएचसी, पीएचसी, गांव, कस्बों, ब्लॉक और चीनी मिल गेट्स तथा सभी गन्ना क्रय केंद्रों पर सैनिटाइजेशन कराने के निर्देश दिए गए हैं।


इस सम्बन्ध श्री भूसरेड्डी, ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाव हेतु गन्ना परिक्षेत्रों में लगातार सेनेटाइजर का छिड़काव किया जा रहा है तथा किसानों को कोरोना वायरस से बचाव के उपाय भी लगातार लाउडस्पीकर से बताये जा रहे है। यह कार्य प्रदेश के सभी चीनी मिल क्षेत्रों में निरंतर किया जा रहा हैं ताकि लोग सुरक्षित रहे। गन्ना विकास विभाग द्वारा चीनी मिलो के सहयोग से सहारनपुर परिक्षेत्र में 165 गाँव तथा 37 सार्वजानिक कार्यालयों, मेरठ परिक्षेत्र में 48 गांवों 6 कस्बों ,60 सार्वजानिक कार्यालयों, मुरादाबाद मे ं53 गांवों 6 कस्बों, 84 सार्वजानिक कार्यालयों, बरेली में 559 गांवों 8 कस्बों , 86 सार्वजानिक कार्यालयों,लखनऊ में 181गांवों 17 कस्बों ,168 सार्वजानिक कार्यालयों, देवीपाटन में 48 गांवों 12 कस्बों ,77 सार्वजानिक कार्यालयों, अयोध्या में 38 गांवों 8 कस्बों ,34 सार्वजानिक कार्यालयों, गोरखपुर में 16 गांवों 02 कस्बों ,19सार्वजानिक कार्यालयों तथा देवरिया परिक्षेत्र में 29 गांवों 05 कस्बों ,38 सार्वजानिक कार्यालयों का सेनिटाइजेशन कराया गया है। इस प्रकार गन्ना विकास विभाग द्वारा प्रदेश में अब तक 1137 गांवों 64 कस्बों तथा 623 सार्वजानिक कार्यालयों का सेनिटाइजेशन कराया जा चुका है तथा अभी भी लगातार इस दिशा में कार्य जारी है जिससे कोरोना महामारी को रोकने में निश्चित रूप से सहायता मिलेगी।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान