के.जी.एम.यू. के शोध छात्र को प्रियंका गाँधी  ने भेजा सम्मान पत्र !


लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के माइक्रो बायोलॉजी के शोध छात्र रामा कृष्णा जो तेलंगाना से विषम परिस्थितियों में लखनऊ आ कर कोरोना वायरस की जांच में मदद कर रहे हैं को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्साह बढ़ाते हुए पत्र लिखा है। डॉ अमिता जैन के निर्देशन में शोध कर रहे रामा कृष्णा मूल रूप से तेलंगाना के खम्मम ज़िले के रहने वाले हैं। जो अपना शोध पत्र लिखने के लिए अपने गांव गए थे। इस दौरान अचानक खेतों में काम करते हुए उनकी गाइड डॉ अमिता जैन का फ़ोन गया और उनसे कहा गया कि क्या केजीएमयू में चल रहे कोरोना मरीज़ों की जांच में सहयोग करने के लिए आ सकते हैं। उन्हें एक घण्टे में सोच कर बताने को कहा गया। अफ़रातफ़री और अनिश्चितता के माहौल की वजह से ये बहुत मुश्किल था और उनके माता पिता भी इस महामारी के कारण तैयार नहीं थे। ऐसे में वो घर से झूठ बोलकर 1500 किलोमीटर के सफ़र के लिए तैयार हो गए। रास्ते में एक जगह पुलिस ने भी रोका लेकिन किसी तरह आख़िरी फ्लाइट पकड़ने में कामयाब रहे। लखनऊ पहुँच कर वो जांच के काम में लग गए। इससे पहले भी वायरस से जुड़े जांचों के दल में वो शामिल रह चुके थे और इसी वजह से उन्हें उनकी गाइड ने बुलाना ज़रूरी समझा था। 


मीडिया में आई इस ख़बर पर प्रियंका गांधी की नज़र पड़ी। जिसके बाद उन्होंने उनका उत्साहवर्धन करते हुए पत्र लिखा।


पत्र में प्रियंका ने लिखा है 'इस आपदा के समय में आपने जिस तरह अपने ज्ञान को देश और इंसानियत की सेवा में अर्पण किया है वो हम सभी के लिए गर्व का विषय है। आपकी अपने काम के प्रति निष्ठा ही सच्ची देश भक्ति है। जो लाखों युवाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत बनेगी। हम सब आपके कृतज्ञ हैं कि आप अपने गृह राज्य तेलंगाना से 15 सौ किलोमीटर की दूरी तय करके सेवा कार्य के लिए लखनऊ पहुँचे हैं। आपकी सेवा भाव को सादर नमन।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान