सीओ 51 प्रजाति के धान की खेती को बढ़ावा देने का आह्वान


कृषि निदेशक कृषि प्रबंध संस्थान ( समेती) रहमान खेड़ा लखनऊ विष्णु प्रताप सिंह ने सभी जिला कृषि अधिकारी एवम् संयुक्त कृषि निदेशक गण का आह्वान करते हुए सी ओ ५१ प्रजाति के धान की खेतीको बढ़ावा देने पर जोर दिया है उन्होंने कहा कि किसानों को अवगत कराना है कि सी ओं -51 धान की प्रजाति जो 105-110 दिन अवधि की प्रजाति है जिसकी औसत उपज 50-60 कुंटल प्रति हैक्टर है, जो ब्लास्ट, बी पी एच ,ग्रीन लीफ हापर  के लिए मध्यम अवरोधी है एवम् यह प्रजाति हाई यील्डिग सेमी डवार्फ प्रकृति की प्रजाति  है इसकी रोपाई नर्सरी से अधिकतम 20-25 दिन के अंदर करना है अथवा सीधी बुआई के लिए बहुत ही उत्साह वर्धक है इसका दाना बीपीटी 5204 की भांति है,इसके बीज की उपलब्धता सभी बड़े फार्मों पर है एवम् जिन जनपदों में बी पी टी 5204 की ज्यादा मांग है वहां कृषकों में इसका व्यापक प्रचार प्रसार करते हुए वितरण कराएं यह प्रजाति कृषकों के लिए वरदान साबित होगी ,इसके दानो की फोटो भी संलग्न है।
 सीओ 51  प्रजाति धान की खेती में मात्र एक ध्यान देने वाली बात है कि इसकी रोपाई 18 से 21 दिन की पौध की करें। चूंकि यह कम अवधि की फसल है, इसलिए अधिक अवधि की पौध अर्थात 24- 28 दिन की पौध लगाने पर कल्ले काम बनते हैं तथा तुरंत ear formation की प्रक्रिया प्रारंभ हो जाती है।
     समय से रोपाई करने पर अच्छी पैदावार प्राप्त होती है तथा 10 अक्टूबर के आस पास कटाई होने से गेंहूँ की बुवाई हेतु प्रयाप्त समय मिल जाता है । किसान आसानी से धान के फसल अवशेष को खेत में सड़ाकर खाद बना सकेंगे तथा crop burning की समस्या से भी निजात मिल सकेगा।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान