आगरा से बस  हाईजैक का सच !


अपने ही बनाए जाल में फंस गई आगरा पुलिस ,श्रीराम फाइनेंस कम्पनी ने जारी किया ब्यौरा ,मौजूद वक्त में बस पर कोई लोन नहीं-कम्पनी 2 साल पहले लोन सेटल हो चुका है-अब्बासी इकबाल अब्बासी श्रीराम कंपनी के हेड हैं।  बस का लोन 2 साल पहले ही खत्म हो चुका है।  'श्रीराम फाइनेंस को बदनाम करने की साजिश' अपराधियों को बचाने में जुटी पुलिस बेनकाब
2018 के लोन सेटलमेंट का ब्यौरा जारी बस दीपा अरोड़ा के नाम खरीदी गई थी। 


आगरा , झांसी, गुरुग्राम से चलकर आगरा के रास्ते पन्ना की तरफ जा रही बस मंगलवार की रात लापता हो गई, सूचना जारी की गई कि 34 यात्रियों वाली बस हाईजैक हो गई है, इसके बाद आगरा से लेकर झांसी तक अलर्ट की स्थिति बन गई, बाद में सूचना मिली कि झांसी के पास से यात्री सकुशल बरामद कर लिए गए हैं, इसके बाद तो जैसे झांसी जिले की सीमाओं को छावनी बना दिया गया। 
महकमा पहुंचा बस स्टैंड
मामला काफी गंभीर था इस बात को ध्यान रखते हुए झाँसी आईजी सुभाष बघेल, डीएम आंद्रा वामसी, एसएसपी दिनेश कुमार पी, एसपी सिटी राहुल श्रीवास्तव, सिटी मजिस्ट्रेट सलिल कुमार पटेल, सीओ सिटी संग्राम सिंह समेत पूरा महकमा बस स्टैंड पहुंचा, यहां जाकर जानकारी जुटाई गई, मीडिया कर्मियों ने मामले की जानने की बहुत कोशिश की लेकिन कुछ भी साफ नहीं हो सका, कैसे  हुई घटना।  इसके बाद सभी लोग विश्वविद्यालय चौकी पहुंच गए, यहां काफी देर तक मंथन के बाद जो कहानी सामने आई वह राहत देने वाली थी, जानकारी यह मिली कि आगरा से हाईजैक की गई कल्पना ट्रेवल्स की बस को आगरा में ही खाली करा दिया गया था, उसके सभी 34 यात्रियों को किराया देकर झांसी के लिए रवाना कर दिया गया था, बुधवार की सुबह दूसरी बस झांसी पहुंची यात्रियों को उतारा और मऊरानीपुर के रास्ते मध्य प्रदेश को रवाना हो गई, 34 यात्रियों में से किसी का भी ताल्लुक झांसी से सामने नहीं आया है, यह सारी कहानी उस व्यक्ति ने बयान की जो 34 यात्रियों में से बस में सफ़र कर रहा था और छतरपुर अपने घर पहुंच गया था। 
पहले फाइनेंस और फिर झगड़ा
आगरा से लापता बस के बारे में बताया गया कि श्रीराम फाइनेंस की आठ किस्त बाकी थी, जिसके बाद फाइनेंस वालों ने ड्राइवर और कंडक्टर को काबू में करके बस अपने कब्जे में ले ली है और टूंडला के रास्ते आगे चले गए हैं, लेकिन इन सारी बातों पर विराम लगाते हुए झांसी से कल्पना ट्रैवल्स के मालिक के रिश्तेदार गगन सामने आए, उन्होंने बताया कि फाइनेंस जैसी कोई बात नहीं थी सारी क़िस्त चुकता है, घर में एक गमी हो गई है, जिसके बाद से लगातार गुमराह किया जा रहा है और बस पारिवारिक झगड़े की भेंट चढ़ गई है उन्होंने भी झांसी आकर बस की जानकारी प्राप्त करने की कोशिश की। 
मुख्यमंत्री का आदेश
मामले का संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश के चीफ मिनिस्टर योगी आदित्यनाथ ने पुलिस अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि मामला काफी संगीन है और इस पर कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाए। 


बस हाईजैक मामले में CM योगी सख्त, कड़ी कार्रवाई के दिए निर्देश
  
उत्तर प्रदेश  के आगरा में बस हाइजैक मामले में बड़ी जानकारी मिली है। हाइजैक बस की 34 सवारियां दूसरी बस से झांसी पहुंच गई है। राहत की बात ये है कि बस में बैठी सभी 34 सवारियां सुरक्षित हैं, लेकिन हाईजैक बस का अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है। बस अभी तक ट्रेस नहीं हो पाई है। इस मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सख्त है। सीएम ने कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।


अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि मामले में डीएम आगरा व एसएसपी को कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। अवस्थी ने कहा कि डीएम और एसएसपी से मामले में रिपोर्ट भी तलब की गई है। उन्होंने बताया कि सभी यात्री सुरक्षित हैं। बस मालिक की मंगलवार रात को ही मौत हुई है और उनके बेटे अंतिम संस्कार में लगे हुए हैं। लिहाजा पूरी जानकारी ली जाएगी।