कृषि क्षेत्र में निवेश के लिए 16.50 लाख करोड़ रूपये की व्यवस्था

 उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री,  सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा आज प्रस्तुत बजट 2021-22 समेकित एवं समावेशी बजट है, जिससे देश के प्रत्येक वर्ग को आर्थिक सम्बल प्राप्त होगा। उन्होंने बजट 2021-22 के लिए देश के प्रधानमंत्री,  नरेन्द्र मोदी एवं केन्द्रीय वित्त मंत्री, श्रीमती निर्मला सीतारमण को बधाई दी। उन्होंने कहा कि बजट में स्वास्थ्य, शिक्षा एवं कृषि क्षेत्र में विशेष बल दिया गया है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में गत् वर्ष की तुलना में 137 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि की गयी है।


कृषि मंत्री ने बताया कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के दृष्टिगत बच्चे योग्य एवं प्रतिस्पर्धी बन सकें, इसके लिए बजट में 2.50 लाख करोड़ रूपये का प्राविधान किया गया है। शोध कार्यक्रमों के अन्तर्गत 50 हजार करोड़ रूपये की व्यवस्था की गयी है, जिसके माध्यम से नये शोध कार्य किये जा सकेंगे। अवस्थापना सुविधाओं के लिए 5.50 लाख करोड़ रूपये से अधिक की व्यवस्था की गयी है, जिससे देश में तेज गति से विकास कार्य कराये जा सकेंगे और लोगों को रोजगार उपलब्ध हो सकेगा। किसानों को कृषि क्षेत्र में निवेश के लिए 16.50 लाख करोड़ रूपये की व्यवस्था के0सी0सी0 के माध्यम से की गयी है, जिसके माध्यम से वे उन्नत एवं तकनीकी खेती कर सकेंगे।
श्री शाही ने बताया कि प्रस्तुत बजट में कस्टम ड्यूटी को हटाया गया है, जिससे एक्सपोर्ट को बढ़ाया जा सके और वैल्यू एडीशन कर किसानों को बेहतर मूल्य दिलाये जाने एवं उनकी आमदनी दोगुनी किये जाने का प्रयास किया गया है। उन्होंने बताया कि बजट में कहा गया है कि एमएसपी पर खाद्यान्न की खरीद जारी रहेगी। इस वर्ष एमएसपी पर 75000 करोड़ रूपये से अधिक के गेहूँ की खरीद की गयी है। धान की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जा रही है और आने वाले समय में समस्त उपज की एमएसपी पर खरीद जारी रहेगी