देवरिया के उर्वरक विक्रेताओं को इफको ने किया प्रशिक्षित


स्वर्ण जयंती महिला बहु उदेशीय सह समिति देवरिया के इशारा भवन के सभागार में सहायक आयुक्त एवं सहायक निबंधक सहकारिता देवरिया  एस के मौर्य  एवं   एम मुजम्मिल ज़िला कृषि अधिकारी देवरिया अध्यक्षता में उर्वरक विक्रेता प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया ।इस अवसर पर अभिमन्यु राय राज्य विपणन प्रबंधक इफ़को लखनऊ ,डा आर के नायक मुख्य प्रबंधक (कृषि सेवाएँ)इफ़क़ो लखनऊ  , सचिन TME इफ़को एमसी,उप क्षेत्र प्रबंधक देवरिया के साथ जनपद के लगभग 60 सहकारी समिति के सचिवों एवं सहकारी बंधुओं  ने भाग लिया । सर्वप्रथम डा विनोद कुमार सिंह  द्वारा सभी अधिकारियों एवं सचिवों का कार्यक्रम में स्वागत किया तथा जनपद में इफ़को की समस्त उपलब्धियों के बारे में विस्तार से चर्चा किया ।अभिमन्यु राय SMM ने अपने सम्बोधन में उर्वरकों के वर्तमान परिदृश्य की चर्चा करते बताया की अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में फ़ास्फ़ैटिक उर्वरकों की क़ीमतों में भारी उछाल के कारण DAP एवम् NPK की क़ीमतों में भारी वृद्धि हो लगभग सभी द्वारा किया जा रहा है लेकिन किसानों की सहकारी संस्था इफ़को द्वारा मार्च माह में कृषकों को DAP 1200/bag तथा NPK 12:32:16 1185/bag में उपलब्ध कराती रहेगी ।आप सभी प्रचार प्रसार कर आवश्यकता के अनुसार कृषकों को इफ़को  फ़ास्फ़ैटिक उर्वरक उपलब्ध कराते रहें।सभी बिक्री केंद्रों से POS स्टाक एवं भौतिक स्टाक में समानता रखने का अनुरोध किया तथा कहा की ऐसा करके आप किसी भी बैधानिक कार्यवाही से अपने आप सुरक्षित रखते हए पारदर्शी ढंग से भारत सरकार के मन्शा के अनुसार उर्वरकों का सुचार रूप से बिक्री कर पाएँगे।समितियों को लाभकारी बनाने के लिए इफ़को के अन्य उत्पादों की बिक्री बढ़ाने का अनुरोध किया।मुख्य प्रबंधक डा नायक द्वारा इफ़को के अन्य उत्पादों के उपयोग एवं महत्व के बारे में विस्तार से चर्चा किया गया।सहायक निबंधक महोदय ने समितियों को व्यवसाय में विविधीकरण लाकर अधिक से अधिक मात्रा में इफ़को के पानी में घुलनशील उर्वरकों ,ज़िंक,सल्फ़र bentonite ,जैव उर्वरकों , Sagarika एवं कृषि रसायनों की बिक्री प्रारंभ करने का आह्वान किया ।ज़िला कृषि अधिकारी श्री mujammil ने कहा कि cash less ट्रैंज़ैक्शन को बढ़ाने के लिए QR कोड ले लें ।उन्होंने कहा आज का युग परिवर्तन करने वाली संस्थाओ एवं व्यक्तियों का है इसलिए सहकारिता को भी पुरानी साख के अनुरूप ऐसा करके परिवर्तन करना चाहिए ।पर्यावरण प्रदूषण एवं उसमें हो रहे परिवर्तनो के कारण तरह तरह की बीमारियाँ फैल रही है इसलिए रासायनिक उर्वरकों के साथ हरी खाद गोबर की खाद एवं फसल प्रबंधन पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत है ।कार्यक्रम में सबसे अधिक अन्य उत्पाद के बिक्री करने पर दो सचिवों को इफ़क़ो की द्वारा पुरस्कृत भी किया गया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सरकार ने जारी किया रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य