*जल संरक्षिका प्रभा चतुर्वेदी का कोरोनासे निधन,


जल संरक्षिका प्रभा चतुर्वेदी ने पानी की एक-एक बूंद को बचाने का संकल्प लिया। इसकी शुरुआत उन्होंने अपने घर से ही की।
जब लोग भूजल के प्रति अनभिज्ञ असंवेदनशील थे। सरकार भी प्रकृति की इस अनमोल धरोहर के संवर्धन के प्रति गंभीर नहीं थी तब प्रभा चतुर्वेदी ने भूजल को बचाने का बीड़ा उठाया। उन्होंने 2004 में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में जनहित याचिका दायर कर दी थी। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सरकार ने जारी किया रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य