आजादी के बाद पहली बार प्रधानी का चुनाव

 इटावा - मुलायम सिंह यादव के गांव सैफई से उनके परिवार की ओर से घोषित किए गए प्रधान पद के उम्मीदवार रामफल बाल्मीकि हुए निर्वाचित।


रामफल बाल्मीकि को 3877 मत मिले है जब कि विनीता नामक महिला को मात्र 15 वोट मिले है।

मुलायम सिंह यादव के गांव सैफई में आजादी के बाद पहली बार मतदान हुआ है ।

इससे पहले कभी भी सैफई में मतदान नहीं हुआ था।  हमेशा प्रधान पद का चुनाव निर्विरोध निर्वाचन के जरिए ही होता रहा है।

आजादी के बाद पहली दफा दलित जाति का कोई प्रधान मुलायम सिंह यादव के गांव में बना है।

1971 से मुलायम सिंह यादव के दोस्त दर्शन सिंह यादव लगातार सैफई गांव के प्रधान निर्वाचित होते चले आए हैं पिछले साल 17 अक्टूबर को उनके निधन के बाद यह सीट रिक्त हो गई थी।
फिर सामान्य पंचायत चुनाव में सैफई गांव के प्रधान पद को अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित कर दिया गया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान