ग्रामीण क्षेत्र की सड़कें अब 05 मी0 चैड़ी ही बनायी जायेंगी

प्रदेश के मा0 उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य द्वारा आज सर्किट हाउस आगरा मे आयोजित कार्यक्रम मे जनपद आगरा एवं मथुरा शिलान्यास एवं लोकार्पण कार्यक्रम में कुल 395 परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया गया, जिसकी कुल लागत धनराशि रू0 48426.55 लाख है। जिसके अन्तर्गत जनपद आगरा की 272 शिलान्यास एवं लोकार्पण की परियोजनायें, जिसकी लागत धनराशि 33317.36 लाख रूपये एवं जनपद मथुरा की 123 शिलान्यास एवं लोकार्पण की परियोजनायें, जिसकी लागत धनराशि 15109.19 लाख रूपये सम्मिलित है।

इस अवसर पर मा0 राज्यमंत्री डा0 जी0एस0 धर्मेश एवं चैधरी उदयभान सिंह, मा0 महापौर श्री नवीन जैन, मा0 सांसद प्रो0 एस0पी0 सिंह बघेल व श्री हरद्वार दूबे, मा0 विधायकगण श्रीमती हेमलता दिवाकर, श्री रामप्रताप चैहान, श्री योगेन्द्र उपाध्याय, श्रीमती रानी पक्षालिका सिंह, श्री जितेन्द्र वर्मा, श्री महेश गोयल, श्री पुरूषोत्तम खण्डेलवाल, श्री पूरन प्रकाश एवं ठाकुर कारिन्दा सिंह उपस्थित थे।  
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मा0 उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर में जो हमारे बीच नहीं रहे, उन सबको विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए परिवारजनों को अपनी संवेदना प्रकट की। उन्होंने सभी से अपील किया कि कोरोना के प्रति सजग व सावधान रहें। कोविड-प्रोटोकॉल का पालन करें। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करेंगे तो निश्चित तौर पर महामारी से अपने सभी जिलों व देश को बचाने में कामयाब होंगे। उन्होंने कहा कि सड़कें विकास का मापदण्ड व आधार होतीं हैं, जिन भी सड़कों का निर्माण कार्य कराया जाना शेष हैं, उन सभी सड़को को शीघ्रतापूर्ण व गुणवत्तापूर्ण बनाये जाने के कड़े निर्देश विभाग द्वारा दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि यह निर्णय लिया गया है कि अब ग्रामीण मार्गों, जो 05 किमी0 लम्बे अथवा मार्ग पर कोई पर्यटन स्थल, कोई धार्मिक स्थल या कोई सार्वजनिक स्थल अथवा कही आबादी अधिक है, तो ऐसे मार्गों का चैड़ीकरण करने का कार्य किया जायेगा। 03 मी0 की जगह 05 मी0 चैड़ी सड़कें बनाये जाने का कार्य किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रथम चरण में ग्रामीण क्षेत्र की 05 किमी0 लम्बी या 05 किमी0 से अधिक लम्बी सड़कें हैं या जो प्राथमिकता की सड़कें हैं, सर्वप्रथम उन्हें पूर्ण किया जायेगा तथा भविष्य के लिये रोडमैप तैयार किया गया है कि ग्रामीण क्षेत्र की सड़कें अब 05 मी0 चैड़ी ही बनायी जायेंगी।
मा0 उप मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उन्होंने विभागीय बैठक में यह निर्णय लिया है कि उ0प्र0 की लगभग 5000 ऐसी सड़कें हैं, जो 250 की आबादी वाले गॉव या उससे अधिक आबादी वाले गॉवों को मुख्य मार्गों से जोड़ती है, इन सभी सड़कों का निर्माण कार्य, जिनकी लागत लगभग ढ़ाई हजार करोड़ रूपये है, वर्षा काल के बाद प्रारम्भ कर दिया जायेगा एवं टेण्डर आदि की प्रक्रिया शीघ्र शुरू की जायेगी।
मा0 उप मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह पूर्व में ही निर्णय लिया गया है कि अलग-अलग क्षेत्रों के जिन प्रतिभाशाली बच्चों का स्थान टॉप-20 में आता है, उनके घर तक की सड़क डा0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम गौरव पथ के नाम से बनाने का कार्य किया जाता है। उन्होंने कहा कि कोई खिलाड़ी जो देश के लिये पदक जीतकर लाता है। राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय पदक प्रदेश के लिये जीतकर लाये हैं, उस विजेता के घर तक सड़क मेजर ध्यानचन्द विजयपथ के नाम से बनाने का कार्य शुरू हुआ है। इसी प्रकार से देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए उ0प्र0 के जो भी वीर सैनिक शहीद होते है, उनके सम्मान में उनके घर तक सड़क जय हिन्द वीरपथ के नाम से बनाने का कार्य कर रहें हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा अलग-अलग क्षेत्रों में विकास के कीर्तिमान स्थापित किये गये हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा किसान कल्याण, गरीब कल्याण एवं मजदूर कल्याण की अनेक योजनाओं का संचालन हो रहा है। उन्होंने कोरोना काल में लोगों के बीच जाकर सेवाकार्य करने का कार्य करने वाले लोगों का अभिनन्दन किया। उन्होंने कहा कि कोरोना काल के विपरीत परिस्थितियों में भी प्रदेश सरकार ने विकास के कार्यों को रूकने नहीं दिया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सरकार ने जारी किया रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य