प्रदेश के 25.60 लाख किसानों को मिला फसल बीमा योजना का लाभ

 उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री, श्री सूर्य प्रताप शाही के निर्देशन में कृषि विभाग द्वारा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत अब तक कुल 205.15 लाख बीमित किसानों द्वारा 167.55 लाख हे0 क्षेत्र में फसलों का बीमा कराया गया। कुल बीमित किसानों के सापेक्ष 25.60 लाख से अधिक किसानों को रूपये 2207.75 करोड़ क्षतिपूर्ति का भुगतान किया गया। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ सभी इच्छुक एवं जरूरतमंद किसानों तक पहंुचाते हुए क्षतिपूर्ति की धनराशि किसानों को समय से उपलब्ध कराना कृषि विभाग की शीर्ष प्राथमिकता है।

कृषि विभाग से मिली विस्तृत जानकारी के अनुसार योजनान्तर्गत वर्ष 2020-21 केखरीफ 2020 मेंयोजनान्तर्गत22.40 लाख बीमित कृषकों द्वारा 17.04 लाख हे0 क्षेत्र में बीमा कराया गया जिसमें से 3.99 लाख कृषकों को माह मई, 2021 तक रू0 288.45 करोड़ की क्षतिपूर्ति का भुगतान किया जा चुका है। रबी 2020-21 में 19.88 लाख बीमित कृषकों द्वारा 14.78 लाख हे0 क्षेत्र में फसलों का बीमा कराया कराया गया।
इसी प्रकार रबी 2019-20 में 23.32 लाख बीमित कृषकों द्वारा 18.09 लाख हे0 क्षेत्र में फसलों का बीमा कराया कराया गया जिसमें 3.41 लाख कृषकों को रू0 279.50 करोड़ की क्षतिपूर्ति का भुगतान किया गया।वर्ष 2019-20 के  खरीफ 2019 मेंयोजनान्तर्गत 23.89 लाख बीमित कृषकों द्वारा 18.90 लाख हे0 क्षेत्र में बीमा कराया गया जिसमें  6.23 लाख कृषकों को रू0 810.89 करोड़ की क्षतिपूर्ति का भुगतान किया गया। रबी 2018-19 में योजनान्तर्गत 29.66 लाख बीमित कृषकों द्वारा 24.26 लाख हे0 क्षेत्र में फसलों का बीमा कराया गया जिसमें से 0.38 लाख कृषकों को रू0 18.39 करोड की क्षतिपूर्ति का भुगतान किया गया।
खरीफ 2018 मेंयोजनान्तर्गत 31.69 लाख बीमित कृषकों द्वारा 27.41 लाख हे0 क्षेत्र में फसलों का बीमा कराया गया जिसमें से योजना के प्राविधानो के अनुरूप 5.69 लाख कृषकों को रु0 434.27 करोड़ की क्षतिपूर्ति का भुगतान किया गया। वर्ष 2017-18 के खरीफ 2017 में 25.81 लाख बीमित कृषकों द्वारा 23.83 लाख हे0 क्षेत्र में फसलों का बीमा कराया गया जिसमें से योजना के प्राविधानों के अनुरूप 4.01 लाख कृषकों को रु0 244.86 करोड़ की क्षतिपूर्ति का भुगतान किया गया। रबी 2017-18 में योजनान्तर्गत 28.39 लाख बीमित कृषकों द्वारा 23.24 लाख हे0 क्षेत्र में फसलों का बीमा कराया गया जिसमें से 1.88 लाख कृषकों को रु0 129.12 करोड़ की क्षतिपूर्ति का भुगतान किया गया।