किसानों को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में नई प्रौद्योगिकी

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राष्ट्रीय किसान कल्याण कार्यक्रम कार्यान्वयन समिति के कार्यालय का उद्घाटन किया। इस अवसर पर श्री तोमर ने कहा कि राष्ट्रीय किसान कल्याण कार्यक्रम कार्यान्वयन समिति पीएम-किसान योजना, किसान मानधन योजना, कृषि अवसंरचना कोष और कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की अन्य योजनाओं के कार्यान्वयन के लिए परियोजना निगरानी इकाई के रूप में कार्य करेगी।

केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों को आत्मनिर्भर बनाने तथा कृषि कार्य संबंधी व्यय हेतु प्रत्यक्ष आय सहायता उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना लागू की है। इस योजना के तहत अब तक 11 करोड़ से अधिक किसान परिवारों के खातों में 1.37 लाख करोड़ रूपए की राशि हस्तांतरित की जा चुकी हैं। श्री तोमर ने कहा कि केंद्र सरकार देश के एक्सपर्ट्स, आईटी कंपनियों के साथ मिलकर किसानों को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में नई प्रौद्योगिकी के साथ कार्य कर रही हैं। यूआईडीएआई के साथ आधार एकीकरण, मोबाइल ऐप का शुभारंभ तथा सीएससी, केसीसी के साथ एकीकरण और राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा बनाए गए भूमि रिकॉर्ड डाटाबेस के साथ एकीकरण के माध्यम से विभिन्न तकनीकी समाधान विकसित किए जा रहे हैं।

कार्यक्रम में कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के दोनों राज्य मंत्री श्री कैलाश चौधरी व सुश्री शोभा करंदलाजे, सचिव श्री संजय अग्रवाल, पीएम- किसान स्कीम के सीईओ श्री विवेक अग्रवाल तथा अन्य अधिकारी व कर्मचारी और विभिन्न एजेंसियों के प्रतिनिधि उपस्थित हुए।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सरकार ने जारी किया रबी फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य