किसानों के लिए कृषि वैज्ञानिकों की सलाह

 

1-तना छेदक कीट- पत्तियों को अंदर ही अंदर खुरचकर खाती है , जिससे धान की पत्तियाँ सफेद व झुलसी हुई दिखाई देती है | इस कीट का प्रकोप अगस्त–सितंबर माह में अधिक होता है |

रोकथाम-10 प्रतिशत पत्तियां क्षतिग्रस्त होने पर कारटाप हाइड्रो-क्लरोराइड (केल्डान 50 प्रतिशत) 2.0 ग्राम/ली. पानी की दर से घोल बनाकर छिड़काव करें ।                                          

   2-इस मौसम में किसानों को सलाह है।   कि यदि टमाटर, मिर्च, बैंगन फूलगोभी व पत्तागोभी की पौध तैयार है तो मौसम को मध्यनजर रखते हुए रोपाई मेड़ों (उथली क्यारियों) पर करें।                                

3-इस मौसम में किसानों को सलाह है कि  गर्भित पशुओं की उचित देखभाल करें।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान