प्रेस काउंसिल ऑफ इण्डिया के नाम का दुरूपयोग करने वाले संस्थानों की गतिविधियों पर की जाए निगरानी

 प्रेस काउंसिल ऑफ इण्डिया (भारतीय प्रेस परिषद) ने सभी राज्यों एवं केन्द्र शासित प्रदेशों से आग्रह किया है कि कुछ संगठन/संस्थान प्रेस काउंसिल ऑफ इण्डिया के नाम से मिलते-जुलते नामों वाले संगठन व संस्थान बनाकर प्रेस, पत्रकारों, जनता एवं प्राधिकरण को गुमराह कर रहे हैं तथा प्रेस काउंसिल ऑफ इण्डिया के नाम का दुरूपयोग भी कर रहे हैं। इसलिए वे अपने-अपने क्षेत्रों में प्रेस काउंसिल ऑफ इण्डिया के नाम से मिलते-जुलते नाम वाले ऐसे संगठनों व संस्थानों के क्रियाकलापों पर शीघ्र रोक लगाने का कार्य करें तथा ऐसे संस्थानों की गतिविधियों पर भी निगरानी रखें ।

सचिव, प्रेस काउंसिल ऑफ इण्डिया द्वारा जारी परिपत्र में कहा गया है कि प्रेस काउंसिल ऑफ इण्डिया के संज्ञान में आया है कि जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इण्डिया (रजि0) नामक संगठन पत्रकारों और जनता को गुमराह कर रहा है और यह संगठन प्रेस काउंसिल ऑफ इण्डिया के नाम से मिलते-जुलते नाम का भी दुरूपयोग कर रहा है। उन्होंने प्रदेश सरकार से इस संबंध में उचित कार्यवाही करने का अनुरोध किया है।
ज्ञातव्य है कि भारत में समाचार पत्रों व समाचार एजेंसियों के स्तरों  को बनाए रखनेे तथा प्रेस की स्वतन्त्रता को सुरक्षित रखने के लिए संसद द्वारा एक अधिनियम बनाकर भारतीय प्रेस परिषद (प्रेस काउंसिल ऑफ इण्डिया) को एक अर्ध न्यायिक एवं सांविधिक निकाय के रूप में गठन किया गया, जिसे ऐसी घटनाओं पर नजर रखने का अधिदेश प्राप्त है, जो प्रेस की स्वतंत्रता को प्रभावित कर सकती है। इसका एक मात्र मुख्यालय सूचना भवन, 8-सीजीओ कॉम्प्लेक्स, लोधी रोड, नई दिल्ली-110003 में स्थित है तथा इसकी अन्य राज्यों में कोई इकाई नहीं है और न ही भारतीय प्रेस परिषद की ओर से कार्य करने के लिए इसी नाम की किसी अन्य संस्था को कानूनी रूप से गठित या अधिकृत किया गया है