प्रदेश की प्रमुख फसलों के उत्पादन, क्षेत्रफल एवं उत्पादकता के आंकलन का निर्देश

उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश की प्रमुख फसलों के उत्पादन, क्षेत्रफल एवं उत्पादकता का आंकलन किये जाने हेतु समस्त मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारियों को निर्देश जारी करते हुये कहा है कि राजस्व विभाग के लेखपालों द्वारा प्रत्येक मौसम में फसलों की पड़ताल की जाती है और पड़ताल से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर फसलों के क्षेत्रफल का आंकलन सुनिश्चित किया जाता है। ऐसी स्थिति में जनपद स्तर पर फसलों के पड़ताल की अधिक से अधिक जनपदीय अधिकारियों से जांच करायी जाये और समय-समय पर इसकी समीक्षा भी की जाए।

अपर मुख्य सचिव कृषि, डॉ0 देवेश चतुर्वेदी की ओर से जारी निर्देश में कहा गया है कि फसलों की उपज के अनुमान के आधार पर प्रदेश में संचालित फसल बीमा योजना के अंतर्गत बीमित किसानों की फसलों की क्षति का आंकलन करते हुये क्षतिपूर्ति प्रदान की जाती है, इसलिए फसलों के उपज के अनुमान का सही आंकलन किया जाना अत्यन्त आवश्यक है। इस हेतु जनपदीय अधिकारियों से फसल कटाई प्रयोगों का अधिक से अधिक संख्या में निरीक्षण कराये जाने के निर्देश दिये गये हैं।
जारी आदेश में कहा गया है कि प्रदेश तथा भारत सरकार द्वारा फसलों के आच्छादन, उत्पादन तथा उत्पादकता में वृद्धि हेतु कई महत्वाकांक्ष्ी योजनायें चलाई जा रही हैं। इन योजनाओं के क्रियान्वयन हेतु प्रभावी रणनीति बनाना तभी संभव हो सकेगा, जब फसलों के आच्छादन की सही-सही पड़ताल करते हुये क्षेत्रफल का आंकलन किया जाए तथा फसलों पर सही-सही फसल कटाई प्रयोगों का सम्पादन कराते हुये उपज का सही अनुमान आंकलित किये जाएं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान