हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला प्रति एकड़ 1000 रुपये का प्रोत्साहन

 प्रति एकड़ 1000 रुपये का प्रोत्साहन

हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल के मुताबिक सरकार फसल अवशेष प्रबंधन के लिए मशीनों पर सब्सिडी देने के अलावा भी लाभ देगी. पराली (Parali) न जलाने वाले किसानों (Farmers) को धान पर एक हजार रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि देने का प्रावधान किया गया है. इसके लिए मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाना होगा.

कितने का है बजट

जो किसान स्ट्रॉ बेलर द्वारा पराली की गांठ या बेल बनाकर या बनवाकर उसका निष्पादन किसी सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम व अन्य औद्योगिक इकाईयों में करेगा उसे 1000 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी. यह राशि 20 से 50 क्विंटल प्रति एकड़ पराली उत्पादन को मानते हुए दी जाएगी. इस योजना के लिए सरकार ने 230 करोड़ रुपये का बजट तय कर दिया है.

पराली जलाने से खत्म हो जाती है उपजाऊ शक्ति

कृषि वैज्ञानिकों के मुताबिक लाभार्थियों का चयन संबंधित उपायुक्त की अध्यक्षता में गठित जिला स्तरीय कार्यकारिणी समिति द्वारा किया जाएगा. चयन के बाद किसान सूचीबद्ध कृषि यंत्र निर्माताओं से मोल-भाव कर अपने यंत्र खरीद सकते हैं. राज्य सरकार ने किसानों से फसल अवशेषों को खेत में न जलाने की अपील की है. क्योंकि पराली जलाने से भूमि की उपजाऊ शक्ति नष्ट होती है

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान