उन्नाव में हुआ 117 किसान पाठशालाओं का आयोजन

उप कृषि निदेशक उन्नाव डा मुकुल तिवारी ने बताया कि आज जनपद के समस्म विकास खण्डों में सरकार की मंशा के अनुरूप कृषि विभाग प्रसार कार्मिकों द्वारा 117 दो दिवसीय किसान पाठशालाओं का आयोजन किया गया। किसान पाठशाला में 3882 महिला और 5361 पुरुष  कुल 9243 किसानों ने प्रतिभाग किया । पाठशाला के आयोजन में कोविड -19 के नियमों का पालन करतें हुए किसनों के हैंण्ड सेनिटाइज , साबुन से आदि का प्रयोग कराया गया। पाठशाला में किसना बहनों एवं भाइयों को बताया गया कि सभी प्रकार के कृषि कार्यों को करने से पहले तथा बाद में हाथों को साबुन से नियमित रूप से धोयें अथवा सेनिटाइजर का प्रयोग करें। कार्य करते समय आंख, मुँह, नाक को हाथ से न छुए ताकि संक्रण से बचे रहे। कृषि कार्यो में लगें श्रमिकों के बीच 4 से 5 फीट की दूरी रखते हुए सोशल डिस्टेसिंग बनाए रखें। इन कार्यों में लगे हुए श्रमिक अपने चेहरे पर मास्क अंगोछा/दुपट्टा अच्छी तरह ढ़कें। फसलों की कटाई/मड़ाई एवं अन्य कृषि कार्यों हेतु कृषि यंत्रों को प्राथमिकता दें। उपज का संग्रह 3-4 फीट में फैले छोटे-छोटे ढेर में किया जा, तथा अच्छी तरह सुखाकर ही

भण्डारण करें। भण्डारण के लिए बोरों को 5 प्रतिशत नीम के तेल में भिगोकर उपचारित करने के बाद अच्छी तरह सुखाकर उपयोग में लाएं। फसलोत्पादन के लिए बीज, उर्वरक, कृषि रक्षा रसायन जैसे कृषि निवेशाों में से उर्वरक एक महंगा और महत्वपूर्ण निवेश है। किसान भाई उर्वरक प्रयोग में इन बातों पर विशेष ध्यान ध्यान दें। यूरिया से पौधों को केवल नाइट्रोजन प्राप्त होता है। नाइट्रोजन पौधे को हरा रखने और उसकी वानस्पतिक बढ़वार के लिए आवश्यक तत्व है। इसकी सहायता से पौधे प्रकाश में अपना भोजन बनाते है। इसलिय यूरिया का प्रयोग बुवाई के समय तथा खड़ी फसल में वानस्पतिक वृद्धि के लिए 2 से 3 बार किया जाता है। किसान भाई बहन जो यूरिया खेत में प्रयोग करते है उसका लगभग 30-40 प्रतिशत ही पौधों द्वारा उपभोग किया जाता है शेष लगभग 60-70 प्रतिशत पानी में घुलकर मिट्टी के नीचे सतहों में या खेत के बाहर अथवा अधिक तापमान की दशा में वाष्प के रूप में उड़कर हवा में चला जाता है। डी0,0पी0 खाद में नाइट्रोजन 18 प्रतिशत और फास्फोरस 46 प्रतिशत होता है। डी0ए0पी0 या एस0एस0पी0 का उपयोग फास्फोरस आपूर्ति के लिए फसल की बुवाई के समय किया जाता है, क्योंकि प्रारम्भिक अवस्था में अंकुरण और पौधों की जड़ बनने के लिए और फसल की प्रारम्भिक अवस्था में अन्य पोषक तत्वों को मिट्टी से सोखने के लिए फास्फोरस जरूरी होता है। फास्फोरस तत्व मिट्टी में नाइट्रोजन की भांति चलायमान नहीं होता। जहॉं डाला जाता है वहीं पड़ा रहता है। पौधों की जड़ वहॉ यदि पहुॅच गयी तो पौधे द्वारा ले लिया जाता है अन्यथा मिट्टी के कणों से चिपका पड़ा रहता है। इसलिए यह आवश्यक है कि फास्फोरस तत्व वाले उर्वरकों का उपयोग बुवाई के समय बीज के नीचे या बिल्कुल पास में किया जाय ताकि जमाव होते ही पौधे उससे पोषण पा सकें। अब खेत में मशीनीकरण के कारण पशुओं का प्रयोग कम हो गया है इसलि, गोबर की खाद की उपलब्धता कम है। ऐसी दशा में किसान भाइयों को जीवामृत, घन जीवामृत जैसे जैविक खेती में उपयोग किये जाने वाले फार्मुलेशन तैयार कर उपयोग करना चाहिये। मिट्टी में केवल उर्वरक डाल देने से ही नहीं पौधों को प्राप्त हो जाते है। इन तत्वों को घुलनशील एवं पौधों द्वारा सोखने योग्य बनाने में मिट्टी का तापमान, नमी और मिट्टी में पाये जाने वाले असंख्य सूक्ष्म जीवों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। गोबर की खाद, कम्पोस्ट, वर्मी कम्पोस्ट, हरी खाद आदि के प्रयोग से लाभकारी सूक्ष्म जीवों की संख्या मे वृद्धि होती है जिससे मिट्टी की भौतिक एवं रासायनिक दशा सुधरती है। जनपद में मुख्य रूप से धान एवं गेहूॅ की खेती की जाती है, विगत कुछ वर्षों से कृषि कार्य में कृषि यन्त्रों का प्रयोग अधिक होने एवं  में कृषि मजदूरों की कमी तथा विशेषकर धान एवं गेहॅूं का  फसल अवशेष जलाया जा रहा हैं, जिसके कारण वातावरण प्रदूषित होने के साथ-साथ मृदा में पोषक तत्वों की बहुत अधिक क्षति होती है साथ ही मृदा के भौतिक स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। फसल अवशेष जलाने से कार्बन मोनो ऑक्साइड, कार्बन डाई आक्साइड, सल्फर डाई आक्साइड निकलता है। इन गैसों के कारण सामान्य वायु की गुणवत्ता में कमी आती है, जिससे ऑंखों में जलन एवं त्वचा रोग तथा सूक्ष्म कणांे के कारण जीर्ण हृदय एवं फेफड़े की बीमारी के रूप में मानव स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। फसल अवशेष जलाने से नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटेशियम, सल्फर, सूक्ष्म पोषक तत्व एवं कार्बन की क्षति होती है। पोषक तत्वों के नष्ट होने के अतिरिक्त मिट्टी के कुछ गुण जैसे भूमि तापमान, पीएच नमी, उपलब्ध फास्फोरस एवं जैविक पदार्थ भी अत्यधिक प्रभावित होते हैं। धान की कटाई एवं गेहॅूं की बुवाई के मध्य बहुत कम समय लगभग 20 से 30 दिन ही उपलब्ध होता है। कृषकों को गेहॅू की बुआई की जल्दी होती है तथा खेत की तैयारी में कम समय लगें एवं ‘शीघ्र ही गेहॅू की बुआई हो जाये इस उदेश्य से कृषाकों द्वारा अवशेष जलाने के दुष्परिणों  से भिज्ञ होते हुये भी, फसल अवशेष जला देते है, जिसकी रोकथाम करना पर्यावरण के लि, अपरिहार्य है। अतः किसान भाइयों एवं बहने अपने फसल अवशेष को जलाने के बजाय समीपस्थ गो-शाला में पहँुचाकर दो ट्राली पराली के बदले एक ट्राली गोबर की खाद ले जाय और अपने खेत की मृदा कोस्वस्थ्य और उपजाऊ बनाएं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान