कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा उन्नाव में पोषण वाटिका महा अभियान


कृषि विज्ञान केंद्र, धौरा, उन्नाव में माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के 70वें जन्म दिवस के अवसर पर पोषण वाटिका महाभियान एवं वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया| कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान, रहमान खेड़ा, लखनऊ के निदेशक, डॉ शैलेंद्र राजन, विशिष्ट अतिथि के रुप में पूर्व विधायक  श्री राधे लाल रावत, केंद्र के अध्यक्ष श्री मोहित कुमार सिंह, बाल विकास परियोजना अधिकारी, विकासखंड-हसनगंज से श्रीमती मीना यादव, केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान के प्रधान वैज्ञानिक डॉ एस आर सिंह, इफ्को फाउंडेशन के श्री मानवेंद्र सिंह आदि उपस्थित रहे। 

उक्त कार्यक्रम में विकासखंड हसनगंज की 45 आगनबाड़ी कार्यकर्ती, 40 कृषि सखी, 38 कृषक महिलाएं तथा 32 कृषक तथा बाल विकास विभाग की मुख्य सेविकाए उपस्थित रही। उक्त कार्यक्रम में महिलाओं एवं किसानों को आम अमरूद नींबू एवं बेल आदि के पौधे वितरित किये गये तथा सभी को पोषण वाटिका हेतु धनिया, गाजर, मूली, पालक, मेथी, सोया, लौकी, तोरई, सीताफल, करेला इत्यादि सब्जियों की बीज किट उपलब्ध कराई गई। प्रशिक्षण कार्यक्रम /गोष्ठी में डॉ अर्चना सिंह, वैज्ञानिक, कृषि विज्ञान केंद्र, धौरा, उन्नाव ने प्रतिभागियों को पोषण वाटिका के फायदे, वर्षभर सब्जी प्राप्त करने हेतु फसल चक्र, वार्षिक कैलेंडर तथा कुपोषण निवारण में फल एवं सब्जियों के महत्व, पोषकथाली आदि पर विस्तृत चर्चा की। केंद्रीय उपोष्ण बागवानी संस्थान के निदेशक ने वृक्षारोपण कर महिलाओं को अपने घर के आस-पास उपलब्ध जगह में फल के पौधे लगाने हेतु प्रेरित किया, तथा अपने संस्थान के माध्यम से महिलाओं हेतु पौधे उपलब्ध करवाएं|इफ्को फाउंडेशन के माध्यम से 100 बीज किट उपलब्ध कराई गई। साथ ही इस कार्यक्रम में उपस्थित विशिष्ट अतिथि के रूप में पूर्व विधायक श्री राधे लाल रावत जी ने कृषक महिलाओं एवं कृषकों को बीज का वितरण किया तथा केंद्र के अध्यक्ष महोदय ने विभिन्न प्रकार के फल वाले पौधे का वितरण किया। साथ ही केंद्र के पशुपालन वैज्ञानिक, सुनील सिंह ने कृषकों, कृषक महिलाओं,  आगनबाड़ी कार्यकर्ती  तथा कृषि सखी को अनुसूचित जाति उप जाति योजना के अंतर्गत 25 दिन के प्रशिक्षण व प्रशिक्षण उपरांत बकरी तथा कुक्कुट दिए जाने के प्रावधान के बारे में बताया| उक्त कार्यक्रम में केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं हेड  डॉ अरविंद कुमार सिंह जी ने किसानों को उद्यान एवं वानिकी के बारे में विस्तृत जानकारी  दी, श्रीमती रत्नासहाय वैज्ञानिक मृदा विज्ञान जी ने मृदा परीक्षण एवं जैविक खेती के बारे में चर्चा की, डॉ  धीरज कुमार तिवारी वैज्ञानिक  शस्य विज्ञान जी ने  धान की फसल में पोषक तत्वों के प्रबंधन  पर  विस्तृत जानकारी प्रदान की , इंजीनियर रमेश चंद्र मौर्य  वैज्ञानिक कृषि अभियंत्रिकी जी ने धान की फसल कटने के बाद जीरो सीड ड्रिल द्वारा पराली  प्रबंधन  पर   व्याख्यान दिया एवं डॉ जय कुमार यादव  वैज्ञानिक पौध संरक्षण ने किसानों को मशरूम की खेती के बारे में जानकारी दी और साथ ही साथ फसलों में लगने वाले कीट रोग प्रबंधन पर विशेष चर्चा की जिससे किसानों को नुकसान होने से बचाया जा सके और अंत में डॉ अर्चना सिंह वैज्ञानिक गृह विज्ञान जी ने गोष्ठी में आए हुए  मुख्य अतिथि, किसानो,  कृषक कार्यकत्रियों आदि सभी लोगों को  धन्यवाद ज्ञापित किया