किसी भी दशा में बिचौलियो के माध्यम से धान की खरीद न की जाय

उत्तर प्रदेश के सहकारिता मंत्री  की अध्यक्षता में उवर्रक की उपलब्धता एवं मूल्य समर्थन योजना के अन्तर्गत धान क्रय की समीक्षा की गयी। प्रदेश में कृषकों की मॉग के अनुरूप उवर्रक उपलब्ध करायी जा रही है। रबी अभियान मे प्रदेश में प्रीपोजशिनिंग में 1,36,565 मै0टन एवं समान्य मे 67,885 मै0टन कुल 2,04,410.00 मै0टन फास्फेटिग तथा बफर में यूरिया का 2,34,701.00 मै0टन सम्भार  उपलब्ध है। प्रदेश में माह अक्टूबर 2021 में 2.17 लाख मै0टन फास्फेटिग उवर्रक तथा 0.53 लाख मै0टन यूरिया का वितरण किया जा चुका है। जो माह अक्टूबर के लक्ष्य के सापेक्ष क्रमशः 192 एवं 102 प्रतिशत है। वर्षा हो जाने से उवर्रकों की मॉग अचानक बढ गयी है।

मंत्री जी द्वारा उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि फील्ड में तैनात अधिकारियों को निर्देशित किया जाय कि प्रदेश के समस्त जनपदों में विशेषतः ऐसे जनपद जो अन्य राज्यों की सीमाओं से मिले हुये है उक्त सीमान्त जनपदों में विशेष अभियान चलाकर निरीक्षण/चेकिंग कर यह सुनिश्चित किया जाय कि उवर्रकों की कालाबाजारी न हो सके तथा अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि ऐसे जनपद जहॉ उवर्रक का बफर स्टाफ समाप्त हो रहा है जैसे ललितपुर, मथुरा, हाथरस, कौशम्बी आदि में कृषि विभाग, इफको तथा कृभको सेे समन्वय स्थापित करते हुए प्राथमिकता पर उक्त जनपदों में उवर्रक उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाये।
        मूल्य समर्थन के प्रथम चरण में पी0सी0यू0, पी0सी0एफ0, एवं यू0पी0एस0एस0 द्वारा संचालित केन्द्रों द्वारा 32,635 मै0टन धान की खरीद की जा चुकी है। माननीय मंत्री जी द्वारा निर्देेशित किया गया कि प्रथम चरण के जो केन्द्र सक्रिय नही हुये है उन्हें तत्काल सक्रिय किया जाये तथा द्वितीय चरण के क्रय केन्द्रों जो दिनाँक 01.11.2021 से प्रारम्भ होने है, वहॉ अधिकारियों द्वारा भ्रमण/स्थलीय निरीक्षण कर धान क्रय सम्बन्धी समस्त व्यवस्थायें सुनिश्चित करा ली जाय। प्रत्येक दशा में शासन की प्राथमिकता के अनुरूप कृषकों को उनकी उपज का लाभकारी मूल्य सुनिश्चित कराये तथा किसी भी दशा में बिचौलियो के माध्यम से धान की खरीद न की जाये अगर ऐसा कोई प्रकरण प्रकाश में आता है तो त्वरित कठोर कार्यवाही सुनिश्चित की जाये।
         प्रदेश की सहकारी समितियों एवं सस्थाओं में पेट्रोल पम्प की स्थापना के लिये लगभग 100 स्थल चयनित किये गये है। सहकारी संस्थाओं में पेट्रोल पम्प की स्थापना हेतु भारत पेट्रोलियम के अधिकारियों से वार्ता चल रही है। शीघ्र ही सहकारी समितियों एवं सस्थाओं में पेट्रोल पम्प स्थापित/संचालित कराकर सहकारी क्षेत्र की सस्थाओं को आर्थिक रूपं से सुदृढ एवं सक्षम बनाया जायेगा।
सहकारिता मंत्री जी की उक्त समीक्षा बैठक में प्रमुख सचिव सहकारिता तथा आयुक्त एवं निबन्धक, श्री बी0एल0 मीणा, अपर आयुक्त एवं अपर निबन्धक (अधिकोषण) श्रीमती बी0चन्द्रकला, प्र्रबन्ध निदेशक, पी0सी0एफ0, श्री मासूम अली सरवर, संयुक्त आयुक्तएवं संयुक्त निबन्धक/नोडल अधिकारी, श्री आर0के0 कुलश्रेष्ठ, संयुक्त निदेशक, कृषि (उवर्रक) श्री पाठक जी एवं इफको तथा कृभको के स्टेट मैनेजर उपस्थित रहे।