सहकारी समितियों के डिजिटलाइजेशन पर बल

केन्द्रीय सहकारिता राज्य मंत्री श्री बी0एल0 वर्मा ने कहा कि देश में सहकारिता के माध्यम से किसानों को सहायता प्रदान करते हुए लाभान्वित करने का काम किया जा रहा है। भारत सरकार में सहकारिता मंत्रालय के गठन हो जाने से सहकारिता विभाग और अधिक मजबूत होगा। केन्द्र में सहकारिता मंत्रालय के गठन के बाद जो भी सहायता की आवश्यकता होगी उत्तर प्रदेश को प्राथमिकता दी जायेगी। सहकारी समितियों के डिजिटलाइजेशन पर बल दिया गया।

यह विचार केन्द्रीय सहकारिता राज्य मंत्री श्री बी0एल0 वर्मा ने आज सहकारिता भवन के पी0सी0यू0 सभागार में आयोजित 68 अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह 2021 के शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित करने के उपरान्त व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सहकारिता के माध्यम से छोटे-छोटे व्यवसाय करते हुए लोग अपना विकास कर सकते हैं। सहकारी समितियों को और विकसित करने के लिए भारत सरकार द्वारा विचार-विमर्श किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी में सहकारिता विभाग द्वारा बेहतर ढंग से कार्य करते हुए विभिन्न माध्यमों से लोगों का सहयोग करने का कार्य किया गया। उन्होंने कहा कि यू0पी0 कोआपरेटिव बैंक लि0 एवं जिला सहकारी बैंकों द्वारा बेहतर ढंग से कार्य करते हुए ग्राहकों की सेवा करनी चाहिए जिससे बैंक के ग्राहकों को अच्छी सेवा उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा कि सहकारी समितियों के माध्यम से किसानों को खाद, बीज का वितरण बेहतर ढंग से किया जाये तथा किसानों का पूरा सहयोग भी किया जाना चाहिए।
उत्तर प्रदेश सहकारिता मंत्री श्री मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सहकारी समितियों के माध्यम से किसानों को सहायता प्रदान करते हुए लाभान्वित करने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 कोआपरेटिव बैंक एवं जिला सहकारी बैंको द्वारा मोबाइल वैन के माध्यम से शहरी क्षेत्र एवं दूरस्थ ग्रामीण अंचलों में निवास कर रहें कृषकों/आम जनमानस को बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध करायी जा रही है। कोरोना काल में भी सहकारी बैंकों द्वारा संचालित मोबाइल एटीएम वैन के माध्यम से बैंकिंग सेवाएं आम जनमानस तक पहुॅचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गयी।
सहकारिता मंत्री श्री वर्मा ने कहा कि प्रदेश की प्राथमिक कृषि ऋण सहकारी समिति (पैक्स) द्वारा कृषकों को खाद, बीज, उर्वरक एवं कृषि रक्षा रसायन उपलब्ध कराकर कृषकों की आर्थिक उन्नति में महत्वपूर्ण योगदान किया जा रहा है। पैक्स द्वारा मूल्य समर्थन योजनान्तर्गत कृषकों से धान/गेहूॅ क्रय कर उनके मूल्य का समय से भुगतान किया गया। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा केन्द्र स्तर पर सहकारिता विभाग का गठन कर कृषकों के जीवन स्तर को सुधारने हेतु संकल्प लिया गया है, जो देश एवं प्रदेश में सहकारिता के उत्थान में एक सार्थक कदम साबित होगा।
उ0प्र0 कोआपरेटिव बैंक लि0 के चेयरमैन श्री तेजबीर सिंह ने कहा कि उ0प्र0 कोआपरेटिव बैंक एवं जिला सहकारी बैंक निरन्तर प्रगति की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि कोआपरेटिव सेवा भाव के लिए ही बना है। सहकारिता विभाग द्वारा किसानों को खाद, बीज, कीटनाशक दवाईयां उपलब्ध करायी जा रही है। नाबार्ड के मुख्य महाप्रबन्धक श्री डी0एस0 चौहान ने कहा कि सहकारी संस्थाओं को और अधिक मजबूत करने की आवश्यकता है। किसानों को वित्तीय अधिकार एवं उनके दायित्व की जानकारी प्रदान करायी जानी चाहिए। उन्होेंने तकनीक अपनाये जाने पर विशेष बल दिया।
प्रमुख सचिव सहकारिता/आयुक्त एवं निबन्धक श्री बी0एल0 मीणा ने आयोजित सहकारी सप्ताह के अवसर पर सहकारिता विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की। प्रबन्ध निदेशक यू0पी0सी0बी0 श्री वी0के0 मिश्र ने उ0प्र0 कोआपरेटिव बैंक लि0 की प्रगति की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण अंचलों में नुक्कड़ नाटक के माध्यम से उ0प्र0 कोआपरेटिव बैंक एवं जिला सहकारी बैंकों की योजनाओं एवं कार्यों का प्रचार-प्रसार करते हुए किसानों को जागरूक किया जा रहा है, जिससे किसान बैंक की सेवाओं एवं योजनाओं का लाभ आसानी से ले सकेंगे। इस अवसर पर उ0प्र0 कोआपरेटिव बैंक के उप सभापति श्री तेजबहादुर सिंह ने कार्यक्रम में आये हुय सभी अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित किया।