रावण अब किसके साथ

लखनऊ, चन्द्र शेखर रावण की बात समाजवादी पार्टी से नहीं बन पाई इस लिए अब वह कांग्रेस अथवा ओबीसी से  हाथ मिला मिला सकते हैं। वह कहते हैं कि "मैंने कल अखिलेश जी से कहा कि आप बड़े भाई हैं आप तय कर लें कि आप हमको गठबंधन में रखना चाहते हैं या नही ! पर उन्होने हमको नहीं बुलाया मतलब साफ है कि अखिलेश जी हम को गठबंधन में नहीं रखना चाहते . तो हम सपा के साथ गठबंधन में नहीं जा रहे है ! भाजपा को सत्ता से रोकने के लिये गठबंधन चाहता था इसलिये दो दिन से लखनऊ में था ! अब अपने दम पर लड़ेंगे चुनाव ! मगर अब तो राजनीतिक जानकारों ने यह कयास लगाना शुरू कर दिया है कि कब वह कांग्रेस के साथ गठबंधन करेंगे या फिर चंद्रशेखर ओवैसी के साथ जायेगे ! पश्चिमी यूपी में नया गठबंधन रंग लायेगा । लोग यह भी कह रहे हैं कि हाशिए पर सर्वाधिक दलित महिलाएं ही हैं ऐसे में चन्द्र शेखर का कांग्रेस के साथ गठबंधन ज्यादा परिणामदायी  हो सकता है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली

सीतापुर में 19 शिक्षक, शिक्षिकायें बर्खास्त