भारत सरकार ने 54 स्मार्टफोन ऐप्स को किया प्रतिबंधित

भारत सरकार ने एक बार फिर चीन के ऊपर डिजिटल स्ट्राइक की है। दरअसल, सरकार ने 54 स्मार्टफोन ऐप्स पर देश में प्रतिबंधित कर दिया है। इन सभी ऐप्स से देश  की सुरक्षा के लिए खतरा पैदा हो रहा था। प्रतिबंधित किए गए ऐप्स में पॉपुलर गेम गरेना फ्री फायर और ऐपलॉक ऐप भी शामिल है। इससे पहले जून 2020 में भारत ने देश की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे कि टिकटॉक, वीचैट और हैलो सहित 59 चीनी मोबाइल ऐप्स को बैन किया था।

इन ऐप्स पर लगा  प्रतिबंधित 

सरकार ने जिन नए 54 ऐप्स को बैन किया है, उनमें स्वीट सेल्फी एचडी, ब्यूटी कैमरा- सेल्फी कैमरा, इक्वलाइजर और बास बूस्टर, सेल्सफोर्स एंट के लिए कैमकार्ड, आइसोलैंड 2: एशेज ऑफ टाइम लाइट, वीवा वीडियो एडिटर, टेनसेंट एक्सरिवर, ओनमोजी चेस, ओनमोजी एरिना, ऐपलॉक, डुअल स्पेस लाइट जैसे ऐप्स शामिल हैं। हालांकि सभी 54 ऐप्स की लिस्ट अभी सामने नहीं आई है।

पॉपुलर स्मार्टफोन गेम गरेना फ्री फायर को पहले ही गूगल प्ले स्टोर और एपल ऐप स्टोर से हटा दिया गया है। ऐसे में माना जा रहा है कि ये भी इस लिस्ट का हिस्सा हो सकता है। हालांकि इस मामले में अब तक गेम के डिस्ट्रीब्यूटर गरेना इंटरनेशनल ने कोई कमेंट नहीं किया है।

देश के  यूजर्स का डेटा हो रहा था लीक

इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने इन ऐप्स पर बैन लगाया है। ये सभी ऐप्स चीन और अन्य देशों में भारतीय यूजर्स का डेटा भेज रहे थे। कहा जा रहा है कि ये ऐप्स विदेशी सर्वर पर भारतीय यूजर्स का डेटा लीक कर रहे थे। ऐप्स पर बैन के लिए गूगल के प्ले-स्टोर को आदेश दिया गया है।

 भारत सरकार ने अब तक तीन सौ  अधिक ऐप्स को किया  प्रतिबंधित

भारत सरकार ने इसके पहले 29 जून 2020 को चाइनीज ऐप्स बैन किए थे। 29 जून 2020 को पहली डिजिटल स्ट्राइक करते हुए 59 ऐप्स पर प्रतिबंध लगाया था। जिसके बाद 27 जुलाई 2020 को 47, 2 दिसंबर 2020 को 118 और नवंबर 2020 को 43 ऐप्स पर बैन लगाए गए। अब 14 फरवरी 2022 को 54 ऐप्स पर बैन लगाया गया है। प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69 ए के तहत सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने इन सभी ऐप्स पर बैन लगाया है।