किसान भगवान को सादर नमन

किसान भगवान को सादर नमन। कृषि जगत में यूरिया के विकल्प के रूप में   अपने भारत देश में नैनो तरल यूरिया का  नया अवतार हो चुका है।  नैनो तरल पारंपरिक यूरिया से सस्ती  कई गुना ज्यादा असरकारी लाभकारी है। 45 किलो बोरी यूरिया को जिसका मूल्य 266.5 रुपए  है। को अब  500 मिली ली में पावें केवल 240 रुपए मे।  नैनो तरल यूरिया नैनो तकनीकि से बनी नैनो यूरिया सभी फसलों की मांग समय की मांग, पर्यावरण की मांग, धरती माता की मांग, अर्थव्यवस्था की मांग, तथा देश की मांग है।  भारतीय कृषि के उन्नयन , कृषि लागत में कमी एवं अधिक उत्पादन हेतु गुणवत्ता वाले  जल विलेय उर्वरकों, जैव उर्वरकों,सागरिका,बायो दी कंपोजर सरीखे प्रभावी उत्पादों के समावेश के लिए निरंतर  प्रयत्नशील चिन्तनशील  इफको के प्रबंध निदेशक  डॉ  उदयशंकर अवस्थी जी  के सोच एवं सपने को  साकार करने के लिए इफको के कृषि वैज्ञानिक डॉ रमेश रालिया एवं उनकी टीम के अथक परिश्रम से अत्यंत कम समय में नैनो तरल यूरिया को प्रत्यक्ष रूप में किसानों के बीच प्रस्तुत किया जा सका है ।। इसे अपना कर किसान भाई आप अपने फसलों पर प्रयोग करें और लाभ लें।। कृषि मंत्रालय भारत सरकार, कृषि विश्वविद्यालयों, कृषि विज्ञान केंद्रों, शोध संस्थानों में सभी फसलों पर नैनो तरल यूरिया का प्रयोग अत्यंत सफल रहा है। आप भी इस नवोन्मेष उत्पाद का प्रयोग करें, इसे लेजाने के लिए आपको ट्रैक्टर ट्रॉली या अन्य बड़े वाहन की जरुरत नहीं है।इसे जेब झोले डिग्गी  में आसानी से ले जा सकेंगे । एक बार प्रयोग के बाद आप पारम्परिक  यूरिया को भूलने लगेंगे। हां चमत्कारिक प्रभाव व लाभ पाने हेतु प्रति एकड़ खेत में एक बोतल (500 मिली ली) नैनो तरल यूरिया के साथ सागरिका 250 मिली ली.  मिलाकर  फसल के 30- 35 दिन की अवस्था तथा दोबारा  20- 25 दिनों बाद छिड़काव करें।

प्रस्तुति  - सुरेन्द्र नाथ त्रिपाठी 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली