घर बैठे मिलेगा श्री काशी विश्वनाथ का प्रसाद

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के नव्य-दिव्य स्वरूप में आने के बाद बाबा भोलेनाथ के दर्शन के लिए भक्त खूब उमड़ रहे हैं। श्री काशी विश्वनाथ का प्रसाद पाकर लोग अपने को धन्य समझते हैं।महाशिवरात्रि में भी देश भर से शिव भक्तों की इच्छा यहाँ दर्शन करने और फिर प्रसाद लेकर अपनी को तृप्त करने की होती है। अक्सर लोगों की इच्छा होती है कि काश घर बैठे ही उन्हें बाबा भोलेनाथ का प्रसाद मिल सके। ऐसे में लोगों को अब निराश नहीं होना पड़ेगा। अब वे घर बैठे डाक विभाग के माध्यम से स्पीड पोस्ट द्वारा श्री काशी विश्वनाथ मंदिर का प्रसाद प्राप्त कर सकेंगे। उक्त जानकारी वाराणसी  परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने दी। 

इस संबंध में जानकारी देते हुए वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि डाक विभाग और श्री काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के बीच हुये एक एग्रीमेण्ट के तहत नए स्वरूप में श्री काशी विश्वनाथ मंदिर का प्रसाद देश भर में स्पीड पोस्ट सेवा द्वारा लोगों को उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके तहत अपने नजदीकी डाकघर से मात्र   251 रूपये का ई-मनीआर्डर प्रवर अधीक्षक डाकघरवाराणसी (पूर्वी) मंडल-221001 के नाम भेजना होगा। ई-मनीऑर्डर प्राप्त होते ही डाक विभाग द्वारा तत्काल दिए गए पते पर स्पीड पोस्ट द्वारा प्रसाद भेज दिया जाएगा। डिब्बा बंद प्रसाद टेंपर प्रूफ इनवेलप में होगा। इससे किसी भी तरह की छेड़छाड़ नहीं की जा सकेगी। इसके अलावा इसे मात्र 201 में वाराणसी सिटी डाकघर के काउंटर से भी प्राप्त किया जा सकता है। इस वित्तीय वर्ष में देश के विभिन्न भागों में लगभग 1500 लोगों को यह प्रसाद भेजा जा चुका है।

 

प्रसाद में शामिल होंगी ये वस्तुएं-

पोस्टमास्टर जनरल  ने बताया कि प्रसाद में श्री काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग की छविमहामृत्युंजय यंत्रश्री शिव चालीसा, 108 दाने की रुद्राक्ष की मालाबेलपत्रमाता अन्नपूर्णा से भिक्षाटन करते भोले बाबा की छवि अंकित सिक्काभभूतिरक्षा सूत्ररुद्राक्ष मनकामेवामिश्री का पैकेट इत्यादि शामिल होंगे। 

 

प्रवर अधीक्षक डाकघरवाराणसी पूर्वी मंडल राजन  ने बताया किडाक विभाग ने इस बात के भी प्रबंध किए हैं किभक्तों को मोबाइल नंबर पर स्पीड पोस्ट का विवरण एसएमएस के माध्यम से मिलेगा। इसके लिए भक्तों को ई-मनीऑर्डर में अपना पूरा पतापिन कोड और मोबाइल नंबर  लिखना अनिवार्य होगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली

सीतापुर में 19 शिक्षक, शिक्षिकायें बर्खास्त