भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह नाराज, कहा, मैं लड़ूंगा चुनाव, फिर बनूंगा विधायक

बलिया, देर रात भाजपा की ओर से टिकट के निर्णय के बाद बलिया जिले में भाजपा कार्यकर्ता दो फाड़ हो गए हैं। बैरिया से मंत्री आनंद को टिकट मिलने के बाद इंटरनेट मीडिया पर भाजपा कार्यकर्ताओं का विरोध शुरू हो गया है और यहां से सुरेंद्र सिंह को ही चुनाव लड़ने की अपील कर रहे हैं। इस लिहाज से देखा जाए तो बागी बलिया में एक बार फिर से सियासी बगावत के स्‍वर ऊंचे हो रहे हैं।

भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने बैरिया में सीटिंग विधायक सुरेंद्र सिंह का टिकट काट दिया है। यहां से मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल को टिकट दिया है। पार्टी के इस निर्णय के बाद बैरिया में भाजपा कार्यकर्ता दो फाड़ होते दिख रहे हैं। उधर विधायक सुरेंद्र सिंह ने भी चुनाव लड़ने का एलान कर दिया है। इंटरनेट मीडिया पर उनके समर्थक इसके लिए मुहीम चलाने लगे हैं। इस विधान सभा में टिकट के दौड़ में और भी कई लोग शामिल थे, लेकिन पार्टी ने जातिगत समीकरण साधने के लिहाज से मंत्री व बलिया नगर सीट के विधायक आनंद स्वरूप शुक्ल को स्थान परिवर्तन कर बैरिया से टिकट दिया। 

 बलिया नगर सीट पर दयाशंकर सिंह के आने से भी राजनीतिक हलचल तेज हो चली है। बैरिया और बलिया नगर में अब सपा कौन सा दांव चलेगी, इस पर सभी की नजर टिकी है। 2017 के चुनाव में भाजपा के सुरेंद्र सिंह को 64868 वोट मिले थे। दूसरे नंबर पर सपा के जयप्रकाश अंचल को 47791 और बसपा के जवाहर को 27974 वोट मिले थे।

टिकट कटने के बाद विधायक सुरेंद्र सिंह से बात करने पर उन्होंने कहा कि पार्टी ने टिकट काट दिया तो क्या हुआ। मै जनता के दिलों में रहता हूं। विधायक जनता बनाती है। आपदा की हर घड़ी में मै जनता के साथ रहा हूं। पार्टी के ही कुछ लोग मेरा विरोध कर रहे थे। इसके पीछे कारण यह था कि मै उनकी कारगुजारियों को खुले मंच पर लाने का कार्य किया। मै दमदारी से चुनाव लडूंगा और दोबारा विधायक भी बनूंगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली