प्रदेश के 12 आयुर्वेदिक कालेजों की मान्यता रद्द

उत्तर प्रदेश के बारह आयुर्वेदिक कॉलेजों की मान्यता रद्द कर दी गई है। जिसमें आगरा के भी दो आयुर्वेदिक कॉलेज शामिल हैं । इन कॉलेजों में मानक पूरे न मिलने पर मान्यता निरस्त करने का फैसला किया गया है। केंद्रीय आयुर्वेदिक चिकित्सा परिषद ने उत्तर प्रदेश के अलग-अलग जिलों में मौजूद 12 निजी कॉलेजों की मान्यता इस सत्र के लिए निरस्त करने का फैसला किया हैं। इसको लेकर दिशा निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं।

केंद्रीय आयुर्वेदिक चिकित्सा परिषद के इस फैसले से बीएएमएस की 880 सीटें फंस गई हैं। आयुष काउंसलिंग के प्रभारी डॉ.उमाकान्त के मुताबिक 12 कॉलेजों में 880 बीएएमएस की सीटें थीं। इन सीटों को अब लिस्ट से हटा दिया गया हैं।

तीन मार्च से आयुष पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए दूसरे चरण की काउंसलिंग शुरू होगी। ऐसे में इस वर्ष आयुर्वेद कॉलेजों में एडमिशन के लिए छात्रों कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ सकता है।

आपको बता दें कि प्रदेश में आठ राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज हैं। इनमें बीएएमएस की 550 सीटें हैं वहीं 50 निजी आयुर्वेदिक कॉलेज हैं ।

 इन कॉलेजों की रद्द हुई मान्यता

अपेक्स मेडिकल कॉलेज मिर्जापुर,

भगवंत आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज बिजनौर,

प्रेम रघु आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज हाथरस,

शांति आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज बलिया,

जेडी आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज अलीगढ़,

केवी आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज आगरा,

एमडी आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज आगरा,

डॉक्टर अनार सिंह मेडिकल कॉलेज फर्रुखाबाद,

शहीद नरेंद्र आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज अलीगढ़,

एस एन एस के आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज गाजीपुर,

आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज शिकोहाबाद-फिरोजाबाद,


 कृष्ण आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज वाराणसी।