रूस और यूक्रेन युद्ध का असर कानपुर में 12 सी. एन.जी. पंप बंद

रूस और यूक्रेन युद्ध का असर अब भारत पर भी पड़ने लगा है. दोनों देशों के बीच खींची तलवार के कारण कानपुर में 12 सीएनजी फिलिंग स्टेशन को बंद करना पड़ा है, क्योकि इन स्टेशन पर सीएनजी की सप्लाई दो दिन से नहीं हो पा रही है. कानपुर में सीएनजी की सप्लाई गुजरात से आती है. गुजरात में इसकी सप्लाई यूक्रेन और रूस से होती थी.

युद्ध के कारण इस समय गुजरात में यूक्रेन और रूस से सप्लाई नहीं आ पा रही है. इससे गुजरात की सीएनजी कंपनियों में गैस की कमी हो गई है. कानपुर में सीएनजी के 32 फिलिंग स्टेशन है, जिनमें 12 को सीएनजी फिलिंग स्टेशन में सप्लाई चेन रुकने से सीएनजी नहीं बंट पा रही है. अगर युद्ध जारी रहा तो संकट और बढ़ता जाएगा.

 सेन्ट्रल उत्तर प्रदेश गैस  लिमिटेड (सीयूजीएल) के कानपुर इंचार्ज मोहित खान का कहना है कि ऊपर से सप्लाई में कमी होने से दिक्कत आ रही है, क्योकि इसकी सप्लाई रूस की कंपनियों से होती है, रूस से सप्लाई बंद होने की वजह से हम सभी सीएनजी फिलिंग स्टेशन को सप्लाई नहीं दे पा रहे हैं. सीयूजीएल के निदेशक हृदेश कुमार का कहना है कि कानपुर में कई इंडस्ट्रीज को भी हम गैस सप्लाई देते हैं, हम इंडस्ट्रीज वालों से बात कर रहे हैं, उनकी कुछ कटौती करके सीएनजी फिलिंग स्टेशन सप्लाई देने की कोशिश कर रहे हैं. 

वहीं सीएनजी न होनी वजह से बंद गैस स्टेशन के मैनेजर का कहना है कि हमारे यहां शनिवार से पम्प बंद है, क्योंकि सप्लाई नहीं आ रही है. कानपुर शहर में प्रतिदिन करीब 2.5 लाख स्टैंडर्ड क्यूबिक मीटर नेचुरल गैस की खपत फिलिंग स्टेशन, उद्योग और घरों में होती है. अभी 80 हजार स्टैंडर्ड क्यूबिक मीटर गैस की प्रतिदिन कम सप्लाई हो रही है. अब तक 12 सीएनजी के फिलिंग स्टेशन बंद किए गए. सीयूजीएल का कहना है कि युद्ध की वजह से संकट है, जिसका हल निकालने की कोशिश की जा रही है, ताकि घरेलू गैस पर कोई फर्क न पड़े. फिलहाल कटौती करके सीएनजी और पीएनजी दी जा रही है.