5 अरबपति अपनी गलती से आ गए अर्श से फर्श पर

 नई दिल्ली। हर इंसान गलती करता है, मगर किसे, कब, कहां और कौन सी गलती कितनी भारी पड़ जाएगी, यह कहा नहीं जा सकता। एक तरफ गौतम अडानी, विजय शेखर जैसे लोग ऊंचाई पर बढ़ रहे हैं, तो दूसरी तरफ कुछ अरबपति ऐसे भी हैं, जो देखते ही देखते आसमान से जमीं पर आ गिरे। आज हम जिनके नाम अर्श से फर्श की सूची में गिना रहे हैं, कभी इनमें से कुछ  लोगों के नाम फोर्ब्स की सूची में आया करते थे। लेकिन समय ने ऐसी करवट ली अब ये करोड़पति से सीधे रोडपति हो चुके हैं। आइए जानते हैं इन पांच महानुभावों के नाम !

वर्ष 2008 तक अनिल अंबानी अमीरों की सूची में विश्व में 8 वें नंबर पर थे। तब उनकी कुल संपत्ति लगभग 42 बिलियन डॉलर थी। हर तरफ इनकी चर्चा होती थी। सक्सेज स्टोरी बताई जाती थी, मगर अब कुछ गलतियों की वजह से ये दिवालिया हो गए। अब नेटवर्थ जीरो पर है और कर्ज अलग से चढ़ गया है। हालांकि, दूसरी तरफ इनके भाई मुकेश अंबानी लगातार नई ऊंचाइयां चढ़ रहे हैं।  

पानी की तरह पैसा बहाने और लग्जरी लाइफ जीने के लिए मशहूर विजय माल्या को कौन नहीं जानता। मगर जितना नाम इन्होंने अमीर होकर बनाया, उससे ज्यादा चर्चित ये भगोड़े बिजनेसमैन के तौर पर हुए। इन पर आरोप है कि देश के 17 बैंक कर करीब 9 हजार करोड़ रुपए लेकर ये विदेश फरार हो गए। दावा किया जा रहा है कि आज इनके हालात ऐसे है कि पैसे को मोहताज हो गए हैं। भगोड़ा घोषित हो चुके हैं और संपत्ति नीलाम हो गई है। इन साल की इनकी कुल संपत्ति 1.2 बिलियन डॉलर है। जबकि इन पर कर्ज एक बिलियन डॉलर का है। इसका मतलब है, ये कर्ज तो चुका देंगे, मगर बाद में बचेगा कुछ नहीं। 

मेहनत के बलबूते गरीब से अमीर और लापरवाही के कारण फिर गरीब बनने का सबसे अच्छा उदाहरण सुब्रत राय हैं। कभी समय था, जब सुब्रत की गिनती अमीरों में होती थी। देश के अलावा विदेशों में भी महंगी प्रापर्टी थी। लेकिन आरोप है कि इन्होंने सहारा ग्रुप के खाताधारकों का पैसा हड़प लिया और यहीं से बुरे दिन शुरू हो गए। जेल की सजा काट चुके हैं। सरेराह स्याही भी फेंकी गई। मतलब फुल बेइज्जती हो चुकी है। 2012 तक इनके पास अरबों रुपए की संपत्ति थी, मगर आज नेटवर्थ करीब डेढ़ करोड़ ही बची है। 

वैसे तो मेहुल चौकसी को तब तक कोई अमीर नहीं जानता था, जब तक वे पंजाब नेशनल बैंक का 14 हजार करोड़ रुपए का घोटाला करके देश से भाग नहीं गए। इनकी गीतांजली नाम से रिटेल ज्वेलरी कंपनी है, जिसके भारत में चार हजार स्टोर हैं। चार साल पहले तक इनकी नेटवर्थ करीब साढ़े ग्यारह सौ करोड़ रुपए थी। मगर जरा सी गलती और गलत काम ने सारा पैसा डूबो दिया और देश से फरार होने को मजबूर कर दिया। अब इनके पास कुल संपत्ति करीब 23 करोड़ ही बची है। 

नीरव मोदी की कहानी भी मेहुल चौकसी जैसी ही है। इन्हें भी 2018 से पहले तक ज्यादातर लोग अमीर के तौर पर नहीं जानते थे, मगर जब पंजाब नेशनल बैंक का 2 बिलियन डॉलर का घोटाला करके देश से भागे, तब इन्हें भी लोग जानने लगे। इनकी पहचान हुई गुजरात के हीरा कारोबारी के तौर पर। पांच साल पहले तक जहां इनके पास कुल संपत्ति 13 हजार सात सौ करोड़ रुपए थी, अब ये 30 हजार 480 करोड़ रुपए के कर्जदार हो चुके हैं। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली

मिर्च की फसल में पत्ती मरोड़ रोग व निदान

सीतापुर में 19 शिक्षक, शिक्षिकायें बर्खास्त