उत्तर प्रदेश बनेगा उत्तम प्रदेश

उत्तर प्रदेश के अवस्थापना व औद्योगिक विकास, निवेश प्रोत्साहन, एन.आर.आई. तथा निर्यात प्रोत्साहन विभाग मंत्री श्री नंद गोपाल गुप्ता ‘नंदी‘  होटल-द सेन्ट्रम, सुशांत गोल्फ सिटी में आयोजित ‘‘सेवा क्षेत्र से निर्यात को प्रोत्साहन’’ उ0प्र0 के मुख्य अतिथि के रूप में शिर्कत की। 

इस अवसर पर प्रदेश के विभिन्न स्थानों से आये प्रमुख निर्यातकों को सम्बोधित करते हुए श्री नंदी जी ने कहा कि निर्यात सभी देशों की अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण आधार स्तम्भ होता है तथा देश के विकास में अग्रणी भूमिका का निर्वहन करता है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2021-22 से फरवरी 2022 तक प्रदेश से कुल 1,40,124 करोड़ रूपये का मर्चेन्डाइस निर्यात हुआ है जिसको अग्रेतर प्रोत्साहन प्रदान करने हेतु प्रदेश सरकार द्वारा संचालित उत्पादानों में वृद्धि की जा रही है परन्तु इसके साथ ही राज्य सरकार द्वारा सेवा क्षेत्र से होने वाले निर्यात में वृद्धि प्राप्त करने तथा प्रोत्साहन प्रदान करने के उद्देश्य से केन्द्र सरकार द्वारा संचालित चौम्पियन सर्विस सेक्टर स्कीम के 12 क्षेत्रों में से पांच क्षेत्रों मशः मेडिकल वैल्यू  ट्रेवल, पर्यटन, शिक्षा, आईटी/आई.टी.ई.एस व लॉजिस्टिक्स का चयन प्रथम चरण में चौम्पियन सेक्टर्स के रूप में करते हुए राज्य सेवा क्षेत्र निर्यात नीति के प्रख्यापन का निर्णय शीर्ष प्राथमिकता के आधार पर लिया गया है।
उन्होंनेे कहा कि इसी श्रृंखला के प्रथम कड़ी में मेडिकल वैल्यू ट्रेवल व पर्यटन क्षेत्र के आवश्यकताओं, अपेक्षाओं व सम्भावनाओं को चिन्हित करने हेतु इस वर्कशॉप का आयोजन किया गया है। उन्होंने कहा कि मेडिकल वेल्यू ट्रेवल तथा पर्यटन के क्षेत्र में निर्यात प्रोत्साहन के साथ समन्वय स्थापित करते हुए चिकित्सा, शिक्षा, एमवीटी से जुड़े विभागों तथा स्टेक होल्डर्स से महत्वपूर्ण सुझाव प्राप्त हुए है। उन्होंने कहा कि समस्त सुझावों को नोट किया गया है तथा उनको अमल में लाते हुए सकारात्मक कदम उठाने का माननीय मंत्री जी ने आश्वासन देते हुए उन्होंने कहा कि विगत पांच वर्षाे में उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश बना है जिसको सर्वाेत्तम प्रदेश बनाने का सरकार का लक्ष्य है। उन्हांेने समस्त विभागों से अपेक्षा कि वे आपसी समन्वय स्थापित करते हुए चिकित्सा वैल्यू व पर्यटन से जुड़ी समस्याओं का समाधान करेगें तथा एक प्रभावशाली नीति निर्धारण में सहयोग देगें। उन्होंने कहा कि विगत कुछ वर्षों मे प्रदेश एक आकर्षक निवेश प्रोत्साहक राज्य के रूप में स्थापित हुआ है। उन्हांेने भरोसा दिलाया कि सरकार उद्यमियांे तथा निवेशकों की प्रत्येक समस्या का समाधान करने हेतु तत्पर है तथा एक कदम आगे बढ़कर कार्य करने हेतु कृत संकल्पित है।
इस अवसर पर श्री नवनीत सहगल अपर मुख्य सचिव ने कहा कि सेवा निर्यात के क्षेत्र में असीमित सम्भावनाएं है, आवश्यकता है तो उन सम्भावनाओं को चिन्हित करते हुए धरातल पर उतारने की। उन्होंने कहा कि सेवा निर्यात के क्षेत्र में यह प्रथम वर्कशॉप है जिसमें हम श्रोता की भूमिका में है, उन्होने स्टेक होल्डर्स से अनुरोध किया कि वे अपनी आवश्यकताओं, अपेक्षाओं व सुझावों से अवगत कराये ताकि सेवा क्षेत्र निर्यात नीति निर्धारण करते समय उनका समाहित किया जा सके।
इस अवसर पर महानिदेशक पर्यटक, श्री मुकेश मेश्राम ने कहा कि प्रदेश में व्यापक धार्मिक, सांस्कृतिक व प्राकृतिक पर्यटन की सम्भावनायें हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इन पर्यटन सम्भावनाओं को समाहित करते हुए विलेज, इको, एग्रो टूरिज्म के साथ-साथ वेलनेस टूरिज्म को प्रोत्साहित करने हेतु कार्ययोजना बना रही है। इस अवसर पर उन्होंने होटल एण्ड  रेस्टोरेन्ट एसोसिएशन के साथ एक एम.ओ.यू. भी साईन किया।
इस अवसर पर डॉ अभय सिन्हा महानिदेशक, सेवा निर्यात प्रोत्साहन परिषद ने  उत्तर प्रदेश के सेवा क्षेत्र से होने वाले निर्यात परिदृश्य पर विस्तृत चर्चा की। पर्यटन व चिकित्सा सेवा क्षेत्र से जुडी दिग्गज शख्सियत- श्री के के जयसवाल, प्रेसीडेन्ट, होटल एण्ड रेस्त्रां एसोसिएशन ऑफ नॉर्दन इण्डिया व उ0प्र0, श्री एस.एम. शिराज चेयरमैन टेªवल ऐजंेटस एसोसिएशन ऑफ यूपी एण्ड यूके चेप्टर, डॉ राकेश कपूर निदेशक मेंदान्ता, डॉ पंकज भारती परामर्शदाता एवं प्रबंध निदेशक डॉ भारती‘ज़्ा होलिस्टिक वेलनेस, श्री प्रमित मिश्रा, प्रतिनिधि अपोलो अस्पताल, डॉ संदीप कपूर प्रतिनिधि हेल्थ सिटी हॉस्पिटल, डॉ अर्पिता आनन्द, वरिष्ठ दंत चिकित्सक व परामर्शदाता तथा डॉ प्रभा सिंह, एंटी एजिंग चिकित्सक व नॉन सर्जिकल एस्थेटिक्स ने भी अपने विचार प्रस्तुत किये तथा माननीय मंत्री जी को अपनी श्री प्रतीक हीरा, सी.ई.ओ. फिक्की ने माननीय मंत्रीजी को मेडिकल वैल्यू व पर्यटन से जुड़ी उद्यमियों की आवश्यकताओं व अपेक्षाओं से अवगत कराया।
उन्होंने कहा कि हम लोग पुराने ज़माने की सोच को बदल कर प्रिया स्कूटर या बजाज स्कूटर बुक कराते थे और जब उसका नम्बर आ जाता था तो तमाम रिशते नाते वाले जो ज़रा पैसे से मजबूत होते थे कहते थे कि आपका नम्बर स्कूटर का आ गया है हमंे दे दो लेकिन अब बदलाव आ गया है, अब किसी भी मर्सडीज या किसी भी शो रूम में जायें अगर वहां अपना नंबर लिखवा दिया, तो वह इतना फोन करेंगे कि आप जब तक गाड़ी खरीद न लें। इसी तरह बिलकुल वैसा ही सरकार का काम होगा हमारे आफीसर और हम अगर कहीं भी आपको इन्डस्ट्री लगानी है कुछ भी करना है तो हम आपको सहयोग करने के लिये तैयार हैं। इस बात का भरोसा हम आपको देते हैं।