कहीं और शादी की तो पूरे परिवार को खत्म करने की दी थी धमकी

गोरखपुर; सिरफिरे की करतूत से गामा का परिवार छह माह से परेशान था। चुपके से प्रीति की शादी तय करके 20 दिन पहले गामा ने बरिक्षा कर दिया। जानकारी होने पर आलोक परेशान हो गया। एक दिन पहले बंगला चौराहा स्थित गामा के घर पहुंचकर प्रीति को अपने साथ विदा करने का दबाव बनाने लगा। विरोध करने पर परिवार को जान से मारने की धमकी देकर चला गया। 15 दिन पहले भी वह घर गया था। घटना को लेकर गांव में आक्रोश है। इसको देखते हुए एहतियात के तौर पर फोर्स तैनात की गई है।

स्कूल में पहुंचकर छेड़खानी करने पर स्वजन ने छुड़ा दी थी पढ़ाई;

प्रीति गांव के ही विद्यालय में पढ़ती थी। छह माह पहले आलोक उसका पीछा करते हुए विद्यालय में पहुंच गया। वहां शादी करने का दबाव बनाने लगा। विरोध करने पर जबरन अपने साथ ले जाने का प्रयास किया था। शिक्षकों के जुटने पर फरार हो गया। इस घटना के बाद स्वजन ने प्रीति की पढ़ाई छुड़ा दी। मामला बढ़ने पर मामा ने भी आलोक को घर से भगा दिया। गांव के लोगाें ने पुलिसकर्मियों को बताया कि रविवार की शाम को आलोक गामा के घर पहुंचा। धमकी देते हुए कहा कि बेटी की शादी हमसे कर दो और हमारे साथ भेज दो। नहीं तो अंजाम बुरा होगा। लोकलाज के भय से उन्होंने शिकायत नहीं की। सोमवार की रात में मौका मिलते ही उसने तीनों की हत्या कर दी। मंगलवार को रायगंज गांव में इसकी चर्चा हर किसी के जुबान पर थी। घटना के विरोध में सभी दुकानें बंद रही।

गांव में पसरा रहा सन्नाटा

रायगंज गांव में मंगलवार को पूरे दिन सन्नाटा पसरा रहा।घटना की जानकारी के बाद सुबह ही सभी रिश्तेदार पहुंच गए।जो गामा के छोटे भाई रामा के घर जाकर आरोप लगाने लगे यह सब उनकी वजह से हुआ।गांव में मौजूद पुलिसकर्मियों ने मामले को शांत कराया।

लोगों को नहीं हो रहा विश्वास,अकेले कर पाएगा तीन हत्या;

स्वजन के साथ ही गांव के लोग घटना में कई और लोगों के शामिल होने का संदेह जता रहे हैं। मेडिकल कालेज पहुंचे स्वजन व रिश्तेदार कह रहे थे कि अकेले ही कोई व्यक्ति तीन लोगों की हत्या नहीं कर सकता। आरोपितों का पता था कि गामा अपने परिवार के साथ मटकोड़वा में जाएंगे। योजना के तहत उन्होंने वारदात को अंजाम दिया गया है। पुलिस इसकी तह तक जाए।

आज होगी चचेरी बहन की शादी

गामा के छोटे भाई रामा के सामने अब दोहरी चुनौती आ गई है। बेटी की शादी के साथ ही उन्हें भाई,भाभी व भतीजी का दाह संस्कार भी करना है। दाह संस्कार के बाद मंगलवार की रात में हल्दी की रश्म हुई। बुधवार को शादी है जिसको लेकर प्रीती के ननिहाल की महिलाएं नाराज हैं। शादी न टालने की वजह से मंगलवार को रामा के घर पहुंचकर उन्होंने हंगामा किया कि वह शादी नहीं टाल रहे। इसलिए घटना में उनकी भूमिका भी संदिग्ध है।उनके घर आते समय ही गामा उनकी पत्नी व बेटी की हत्या हुई है।

शाम को ही आ गया था आलोक

गांव के लोगों ने पुलिस को बताया कि आलोक सोमवार की शाम को छह बजे ही आ गया था।कुछ देर वह प्रीती के नए घर के पास चाय की दुकान पर बैठा रहा। फिर एक अन्य दुकान से उसने बांकी लिया। घर से निकलते ही पीछे पहुंचकर ताबड़तोड़ हमला कर फरार हो गया।वारदात के बाद पास के ही झाड़ी में उसने बांकी फेंक दिया था।उसकी निशानदेही पर पुलिस ने झाड़ी से दो धारदार हथियार बरामद किया।

देर रात बड़ा बेटा पहुंचा घर

गामा का बड़ा बेटा सुग्रीव एक माह पहले हैदराबाद गया था। घटना की जानकारी होने पर वह स्टेशन पहुंचा लेकिर ट्रेन नहीं मिली। जिसके बाद बस से घर आने के लिए निकला। रात 10 बजे के करीब सुग्रीव घर पहुंचा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली

सीतापुर में 19 शिक्षक, शिक्षिकायें बर्खास्त