ऐसे बनवाये आयुष्मान कार्ड

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आशुतोष कुमार दूबे ने आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना एवं मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान से आच्छादित परिवारों से अपील की है कि वह  क्षेत्र की आशा कार्यकर्ता से संपर्क कर आयुष्मान कार्ड बनवा लें। बुधवार से 18 मई तक इसके लिए विशेष अभियान चलाया जायेगा जिसमें आयुष्मान कार्ड निःशुल्क बनवाया जा सकता है । आयुष्मान कार्ड केवल उन्हीं लोगों का बनेगा जो कि योजना के तहत सूचीबद्ध हैं । अभियान के दौरान सभी विलेज लेवल इंटरप्रेन्योर (वीएलई) कोटेदारों के यहां कैंप लगा कर कार्ड बनाएंगे जिसकी जानकारी आशा कार्यकर्ता से प्राप्त कर सकते हैं।

 जिला अस्पताल से अभियान का शुभारंभ करने के बाद मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि कोई व्यक्ति योजना का लाभार्थी है या नहीं, यह जानकारी भी आशा कार्यकर्ता की मदद से ली जा सकती है, क्योंकि उनके पास लाभार्थियों की सूची उपलब्ध है । सीएमओ ने नयी बाजार के रहने वाले 62 वर्षीय अमरजीत यादव का आयुष्मान कार्ड वेरिफाई कर योजना का शुभारंभ किया। अमरजीत ने बताया कि उन्हें समाचार पत्र के माध्यम से अभियान की जानकारी हुई और वह कार्ड बनवाने जिला अस्पताल पहुंचे। उनके परिवार में छह लोग हैं और सभी लोगों का कार्ड वह बनवाएंगे।

 पात्रता की सूचना ऑनलाइन जानने के लिए वेबसाइट pmjay.gov.in पर जाएंगे तो दाहिनी तरफ ऊपर की ओर एम आई एलिजिबल (क्या मैं पात्र हूँ) लिखा मिलेगा । क्लिक करने पर एक पेज खुलेगा और बायीं तरफ लॉगिन लिखा होगा। इसके ठीक नीचे अपना मोबाइल नंबर डालना है। इसके ठीक नीचे कैप्चा कोड भरेंगे और जनरेट ओटीपी पर क्लिक करेंगे। इसके बाद मोबाइल पर एक कोड आएगा। इसे दर्ज करेंगे और इसके ठीक नीचे लिखे नियम शर्तों की स्वीकृति के सामने बने एक बॉक्स पर क्लिक करके सब्मिट पर क्लिक कर देंगे। अब पेज पर बायीं तरफ ऊपर की ओर सर्च लिखा दिखाई देगा। इसके ठीक नीचे सेलेक्ट स्टेट पर अपना राज्य चुनेंगे।इसके ठीक नीचे सेलेक्ट कैटेगरी पर क्लिक करेंगे। यहां आपको अपना नाम सर्च करने के लिए पांच ऑप्शन (नाम, एचडीडी नंबर, राशन कार्ड नंबर, मोबाइल नंबर)मिलेंगे। किसी भी एक ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद पिता का नाम, मां का नाम, जेंडर, शहरी या ग्रामीण आदि जानकारी देनी होंगी और फिर सर्च पर क्लिक करेंगे। अगर नाम योजना में है तो वह ठीक बराबर में सर्च रिजल्ट में दिख जाएगा। नाम आने का मतलब है कि आप इस योजना के लाभार्थी हैं ।

डॉ दूबे ने बताया कि ऑनलाइन मोड के अलावा फोन कॉल करके भी पात्रता जांच सकते हैं ।सबसे पहले अपने पास आधार नंबर और राशन कार्ड नंबर रखेंगे।अब अपने मोबाइल से 14555 या 180018004444 डायल करें । यह नंबर योजना के टोल फ्री हेल्पलाइन से जुड़े हैं और इन पर हफ्ते के सभी दिन 24 घंटे बात की जा सकती है।इन नंबरों पर पूछ सकते हैं कि नाम इसमें है या नहीं? इसके लिए मोबाइल नंबर, आधार नंबर या राशन कार्ड नंबर आदि पूछा जा सकता है। इसके बाद जानकारी मिल जाएगी। इस तरह से जिन लोगों का नाम योजना में होगा उन्हीं लोगों का कार्ड बनाया जाएगा । योजना के तहत भर्ती होकर इलाज करवाने पर प्रति लाभार्थी परिवार पांच लाख रुपये तक का निःशुल्क इलाज सूचीबद्ध अस्पतालों में प्राप्त किया जा सकता  है ।

जिले में योजना के करीब 4.48 लाख लाभार्थी परिवारों के करीब 20 लाख लाभार्थी योजना से आच्छादित हैं। जिले में लगभग 5.10 लाख लाभार्थियों के पास आयुष्मान कार्ड मौजूद है।

उद्घाटन अवसर पर नोडल अधिकारी डॉ अनिल कुमार सिंह, डीपीसी डॉ संचिता मल्ल, जिला सूचना तंत्र प्रबंधक शशांक प्रमुख तौर पर मौजूद रहे।

आयुष्मान कार्ड के लिए आवश्यक दस्तावेज

मूल राशन कार्ड (अनिवार्य)

मूल आधार कार्ड (अनिवार्य)

वोटर आईडी कार्ड (अनिवार्य)

प्रधानमंत्री का मूल पत्र अगर प्राप्त हुआ हो तो

मुख्यमंत्री का मूल पत्र अगर प्राप्त हुआ हो तो

आयुष्मान कार्ड के फायदे

सीएमओ ने बताया कि कार्ड पहले से उपलब्ध होने पर गंभीर परिस्थितियों में इलाज करवाने के दौरान लाभार्थी का कीमती समय बचता है। कार्ड होने पर आरोग्य मित्र वेरीफाई कर मरीज का तुरंत इलाज शुरू करवा देते हैं। कार्ड पर क्यूआर कोड होता है जिसे स्कैन करके तुरंत लाभार्थी का वेरीफिकेशन हो जाता है। योजना के लाभार्थी अपना आरोग्य कार्ड किसी भी जन सुविधा केन्द्र,योजना में आबद्ध निजी अस्पताल एवं सरकारी अस्पताल मे निशुल्क बनवा सकते हैं । मरीजों को इलाज में सहूलियत देने के मकसद से कार्ड की व्यवस्था लागू की गयी है।