एकेटीयू से निकलेंगे फार्माप्रेन्योर्स

फार्मा क्षेत्र में छात्रों को नवाचार के लिए प्रोत्साहित करने के उदेश्य से डॉ एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय के इनोवेशन हब की ओर से फार्माप्रेन्योर्स का आयोजन किया जा रहा है। जिसके तहत पिछले दिनों विश्वविद्यालय से संबद्ध फॉर्मेसी संस्थानों के छात्रों से फार्मा में नये आइडिया के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे गये थे। जिसके बाद छात्रों की 80 से अधिक टीमों ने अपने आइडिया भेजे। मंगलवार को इन्हीं आइडिया में से जूरी ने 20 का चयन किया। जिसमें से टॉप थ्री आइडिया देने वाली टीम को लैपटॉप और टैबलेट देकर सम्मानित किया गया। साथ ही टॉप फाइव को विश्वविद्यालय की ओर से उनके आइडिया को स्टार्टअप में बदलने में सहयोग के लिए भी चुना गया। इस मौके पर माननीय कुलपति प्रो. प्रदीप कुमार मिश्र ने छात्रों को जीवन में सफल होने के लिए पांच सिद्धांत बताया। कहा कि सफलता के लिए सबसे जरूरी है प्रेरणा। इसलिए हमेशा प्रेरित रहिए। इसके बाद अपने संसाधनों को व्यवस्थित करिये।  समय-समय पर जोखिम का आकलन करने की सीख दी साथ ही कहा कि कभी भी डरो मत और हमेशा नवोन्मेषी रहो। उन्होंने कहा कि पहले की पीढ़ी उद्यमी बनने के बारे में नहीं सोचती थी। लेकिन अब समय, संसाधन और सोच सब बदल गया है। अब युवा नौकरी करने वाला नहीं बल्कि नौकरी देने वाला बनने की तरफ कदम बढ़ा रहा है। कहा कि अब उनके सपनों को उड़ान देने के लिए बहुत कुछ है। बतौर मुख्य अतिथि सदस्य, विधान परिषद (एमएलसी) अवनीश कुमार सिंह ने अपने संबोधन में प्रो. प्रदीप कुमार मिश्रा को फार्मेसी छात्रों के लिए फार्माप्रेन्योर्स कार्यक्रम की अवधारणा के लिए बधाई दी। कहा कि छात्रों के भीतर उद्यमिता के प्रति प्रेरणा देने के लिए यह आयोजन निश्चित ही महत्वपूर्ण है। इससे छात्रों के भीतर कुछ नया और अलग करने की सोच विकसित होगी। छात्रों पेश आइडिया की तारीफ करते हुए कहा कि पीएम मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में सरकार युवाओं के लिए लगातार काम कर रही है।

चयनित 20 फार्माप्रेन्योर्स ने अपने आइडिया एक-एक कर जूरी मेंबर्स के सामने प्रस्तुत किया। जूरी मेंबर्स ने सभी प्रस्तुत आइडिया को बारिकी से देखा-परखा। इसके बाद टॉप थी्र बेहतरीन आइडिया का चयन किया गया।
जूरी मेंबर्स ने टॉप थ्री आइडिया का चयन किया। जिसमें प्रथम स्थान पर आरकेजीआईटी गाजियाबाद की सारिका सिंह और उनके टीम मेंबर्स अंकित शर्मा, निखिल कुमार और परिक्षित सचदेवा रहे। जिन्हें इनाम के तौर पर लैपटॉप दिया गया। जबकि दूसरे स्थान पर रहने एसआरएमएस सेट फॉर्मेसी बरेली की कृति सक्सेना और उनके सहयोगी अक्सा नदीम शौर्या ठाकुर को टैबलेट और इसी तरह तीसरे नंबर पर आने वाले गोयल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मासियुटिकल साइंस के दीपक कुमार व उनके सहयोगी शिखा यादव, हबीबुल्लाह और कैफ अनवर को भी टैबलेट दिया गया। वहीं, पीएसआईटी कानपुर के प्रभाकर शाक्य और अभिषेक सिंह राठौर को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।
चयनित टॉप फाइव फार्मा इन्क्युबेटीज को कलाम इनोवेशन सेंटर की ओर से कई तरह की सुविधाएं मिलेंगी। उनके आइडिया को स्टार्टअप तक तब्दील करने में सेंटर की ओर से विशेषज्ञ मेंटॉर करेंगे। वहीं, इन्क्युबेटीज सेंटर स्थित लैब का भी लाभ प्रयोग कर सकेंगे। इसके अलावा चयनित इन्क्युबेटीज को अपने आइडिया और स्टार्टअप के लिए सेंटर में कोवर्किंग स्थान भी दिया जाएगा।
फार्माप्रेन्योर्स के चयन में जूरी मेंबर्स में अपने-अपने क्षेत्र के विशेषज्ञ और सफल उद्यमी रहे। इसमें फॉर्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया के एजुकेशन रेगुलेशन कमेटी के अध्यक्ष डॉ दीपेंद्र सिंह, इथ्नो मेडिसिन रिसर्च सेंटर मणिपुर के एग्जिक्युटिव डायरेक्टर डॉ0 एकेएस रावत, सीनियर प्रिंसिपल साइंटिस्ट एंड एससीआई इन चार्ज फार्माकोलॉजी डिविजन, सीडीआरआई लखनऊ के डॉ0 मनोज कुमार बर्थवाल और बॉयो गैस एसोसिएशन के चेयरमैन गौरव केडिया थे। इन्होंने अपने अनुभव और अपना सफर छात्रों से साझा किया। इस मौके पर एकेटीयू के उपकुलसचिव डॉ0 आरके सिंह, इनोवेशन हब के नोडल ऑफिसर डॉ0 अनुज कुमार शर्मा, गोयल संस्थान के निदेशक प्रणय वाल सहित अन्य लोग मौजूद रहे। धन्यवाद इनोवेशन हब के हेड श्री महीप सिंह ने दिया जबकि संचालन इनोवेशन हब की मैनेजर वंदना शर्मा और रितेश सक्सेना ने किया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली