गन्ना विकास विभाग में नवविचारों का होगा संचार

भारत सरकार द्वारा कार्यालयों एवं औद्योगिक इकाईयों की मांग के अनुरूप कुशल मानव संसाधन तैयार करने हेतु प्राविधान किये गये हैं। इस हेतु मा. मुख्यमंत्री उ.प्र. के रोजगार सृजन करने के निर्देशों के क्रम में विद्यार्थियों को रोजगार परक शिक्षा एवं अनुभव देने के उद्देश्य से चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग के विभिन्न कार्यालयों यथा गन्ना आयुक्त कार्यालय, गन्ना शोध परिषद, गन्ना किसान संस्थान, सहकारी गन्ना समिति संघ लि., राज्य चीनी निगम एवं सहकारी चीनी मिल संघ में इच्छुक प्रशिक्षु को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

     यह जानकारी देते हुए अपर मुख्य सचिव आबकारी, श्री संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि इंटर्नशिप व अप्रेन्टिसशिप प्रशिक्षण प्राप्त करने हेतु ऐसे प्रशिक्षु जो प्रोफेशनल कोर्स/स्नातक/परास्नातक/अनुसंधानरत विद्यार्थी है और सम्बन्धित पाठ्यक्रम के किसी भी सेमेस्टर में अध्ययनरत है एवं जिसके द्वारा पिछले सेमेस्टर में कम से कम 55 प्रतिशत अंक प्राप्त किए गये हैं, के लिये इंटर्नशिप/अप्रेन्टिसशिप करने का कार्यक्रम शासन के आदेश पर प्रारम्भ किया गया है। इस कार्यक्रम में  कृषि, विपणन, लेखा, विधि, कम्प्यूटर, शर्करा तकनीकी, अभियन्त्रण, सूचना प्रौद्योगिकी, मानव संसाधन, सांख्यिकी एवं औधोगिक प्रशिक्षण आदि के भिज्ञ एवं प्रशिक्षण प्राप्त करने हेतु इच्छुक प्रशिक्षु द्वारा गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग, उ.प्र. की वेबसाइट ूूूण्नचबंदमण्हवअण्पद पर जाकर इंटर्नशिप/अप्रेंटिसशिप टैब पर क्लिक कर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। यह प्रशिक्षण उनको भविष्य में रोजगार प्राप्त किये जाने की दशा में व्यवहारिक रूप से कुशल, अनुभवी व कार्यदक्ष बनाने में सहायक होगा।
श्री भूसरेड्डी ने यह भी बताया कि इंटर्नशिप की अवधि तीन चरणों में होगी जो 21, 30 एवं 60 दिनों में तथा अप्रेंटिसशिप 01 वर्ष में पूर्ण की जाएगी। प्रशिक्षणकाल में प्रशिक्षु की कम से कम 90 प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य है तथा प्रशिक्षण कार्यक्रम के अन्तर्गत प्रशिक्षु के रूप में चयनित होने से पूर्व सरकारी कार्यालय की गोपनीयता बनाये रखने के सम्बन्ध में निर्धारित प्रारूप पर निजी घोषणा-पत्र देना अनिवार्य होगा। इंटर्नशिप/अप्रेन्टिसशिप कार्यक्रम के सम्पन्न होने के उपरान्त प्रत्येक प्रशिक्षु द्वारा अपने संपूर्ण किये गये कार्य के संबंध में स्वमूल्यांकन रिपोर्ट प्रस्तुत करनी होगी। इसके पश्चात ही सफल प्रशिक्षुओं को संबन्धित संस्था द्वारा प्रशिक्षण प्रमाण-पत्र प्रदान किया जायेगा।
इंटर्नशिप/अप्रेन्टिसशिप प्रोग्राम हेतु प्रशिक्षु का चयन अभ्यर्थियों की उपयुक्तता एवं अर्हताओं के आधार पर किया जाएगा, इसलिए विद्यार्थियों को अपनी श्रेणी के अन्तर्गत ही आवेदन करना होगा अन्यथा स्क्रूटनी के दौरान आवेदन पत्रों को निरस्त कर दिया जाएगा। उक्त इंटर्नशिप प्रोग्राम प्रशिक्षुओं को शासन एवं उसके अधीनस्थ विभागांे व कार्यालयों में हो रहे कार्यों से परिचित करायेगा एवं उन्हें अपने विषय से संबंधित विभिन्न कार्यों के संबंध में विशेष कौशल व्यावसायिक/व्यावहारिक अनुभव एवं सामूहिक रूप से टीम भावना के साथ कार्य करने का अवसर प्रदान करेगा जिससे विभिन्न कार्यक्षेत्रों में नवयुवक शक्ति एवं नवविचारों का संचार होगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली