दिल्ली के उप मुख्यमंत्री पर प्राथमिकी दर्ज

 
शराब घोटाले में फंस चुके डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के घर से 14 घंटे बाद सीबीआई की टीम बाहर निकल गई है. सुबह जो रेड शुरू हुई थी, वो देर रात तक चलती रही और अब जाकर खत्म हुई. जांच के दौरान कुछ सीक्रेट डॉक्यूमेंट भी बरामद किए गए हैं.

शराब घोटाले में फंस चुके डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के घर से 14 घंटे बाद सीबीआई की टीम बाहर निकल गई है. सुबह जो रेड शुरू हुई थी, वो देर रात तक चलती रही और अब जाकर खत्म हुई. जांच के दौरान कुछ सीक्रेट डॉक्यूमेंट भी बरामद किए गए हैं. 

इस पूरे मामले में सीबीआई की FIR ने मनीष सिसोदिया की मुसीबत सबसे ज्यादा बढ़ाई है. इस मामले में सियोदिया को सिर्फ एक आरोपी नहीं माना जा रहा है, बल्कि मुख्य आरोपी के तौर पेश किया जा रहा है. सीबीआई की FIR में मनीष सिसोदिया का नाम सबसे ऊपर है, बाकी आरोपियों के नाम नीचे आ रहे हैं. ऐसे में जांच का केंद्र मनीष सिसोदिया पर ही रहने वाला है. वैसे डिप्टी सीएम के सामने चुनौती ये भी है कि जो उनके करीबी हैं, उन पर कमीशन लेकर शराब व्यापारियों को लाइसेंस देने का आरोप लग गया है. सीबीआई को इसके भी कुछ पुख्ता सबूत हाथ लगे हैं.

सीबीआई के एक्शन से मनीष सिसोदिया खासा खफा है. देर रात मीडिया से बात करते हुए उन्होंने सीधे-सीधे केंद्र सरकार पर अपना हमला बोला है. सिसोदिया ने कहा है कि आज सुबह सीबीआई की टीम आई थी, उन्होंने पूरे घर की तलाशी ली. मेरा कंप्यूटर और पर्सनल मोबाइल सीज करके ले गए हैं. मैंने और मेरी फैमिली ने पूरा सहयोग दिया जांच में, आगे भी जांच होगी तो सहयोग देंगे. हमने कुछ गलत नहीं किया है, कोई भ्रष्टाचार नहीं किया है. इसलिए हम डर नहीं रहे हैं. हम जानते हैं कि सीबीआई का दुरुपयोग किया जा रहा है, सीबीआई को ऊपर से यूज किया जा रहा है, ऊपर से कंट्रोल किया जा रहा है. सब लोग जानते हैं कि किस तरह सीबीआई को कंट्रोल करके दिल्ली सरकार के अच्छे काम रोकने की कोशिश की जा रही है.

वे आगे कहते हैं कि हम कट्टर ईमानदार हैं, पिछले 7-8 साल से जब से राजनीति में आए हैं, ईमानदारी की राजनीति करते हैं, हमने कहीं कुछ गलत नहीं किया और आगे भी ऐसे ही काम करते रहेंगे. बहुत ईमानदारी से दिल्ली में स्कूल बनाए हैं, लाखों बच्चों का भविष्य संवारा है, ईमानदारी से काम करते हुए अस्पताल बनवाए हैं, लाखों लोगों को इलाज मिला है. लाखों लोगों की दुआएं, लाखे बच्चों और उनके पेरेंट्स की दुआएं हैं. हम उनके लिए काम करते रहेंगे. केंद्र सरकार जितना दुरुपयोग करना चाहे सीबीआई का कर ले, हमने कुछ गलत नहीं किया, वे हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते. ये लाख रोकने की कोशिश करें, लेकिन स्कूल का काम लोगों को अच्छी शिक्षा देने का काम अच्छा इलाज देने का काम दिल्ली सरकार रोकेगी नहीं.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली

सीतापुर में 19 शिक्षक, शिक्षिकायें बर्खास्त