लखनऊ में बनेगा नदियों की निगरानी के लिए कंट्रोल रूम

गंगा समेत प्रदेश की सभी नदियों की निगरानी अब ऑनलाइन होगी। नदियों में गिरने वाले सीवेज को रोकने के लिए बनाए गये सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों (एसटीपी) पर सीसीटीवी कैमरे लगेंगे। इन हाईटेक कैमरों के जरिये कंट्रोल रूम में बैठकर विभाग के अधिकारी-कर्मचारी नदियों की स्वच्छता की 24 घंटे ऑनलाइन निगरानी कर सकेंगे। जलशक्ति मंत्री श्री स्वतंत्र देव सिंह ने नमामि गंगे की समीक्षा बैठक में यह दिशा-निर्देश दिये हैं। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को जल्द से जल्द इसकी कार्ययोजना तैयार करने और राजधानी में नदियों की निगरानी के लिए कंट्रोल रूम बनाने के लिए भी कहा है। नमामि गंगे और ग्रामीण जलापूर्ति विभाग के प्रमुख सचिव अनुराग श्रीवास्तव की मौजूदगी में गोमती नगर स्थित राज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिशन के सभागार में कल देर शाम हुई बैठक में जल शक्ति मंत्री ने कंट्रोल रूम की निगरानी के लिए विशेष टीम का गठन करने के निर्देश भी दिये।

राज्य सरकार गंगा समेत प्रदेश की सभी नदियों की सफाई के लिए बड़े कदम उठाने जा रही है। सीवेज ट्रीटमेंट प्लांटों के ठीक से संचालन न होने और एसटीपी होने के बावजूद नदियों तक सीवेज पहुंचने पर रोक लगाने के लिए अब ऑनलाइन निगरानी की व्यवस्था शुरु करने की तैयारी है। इस योजना के तहत विभाग का सबसे ज्यादा जोर गंगा, यमुना, गोमती और सरयू जैसी बड़ी नदियों के साथ ही छोटी नदियों पर भी है। समीक्षा बैठक में जलशक्ति मंत्री ने बिजनौर से बलिया तक गंगा स्वच्छता पर किये जा रहे कार्यों और गंगा नदी के किनारे बने एक-एक एसटीपी की रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिए हैं। समीक्षा बैठक में राज्य मंत्री रामकेश निषाद, जल निगम के एमडी बलकार सिंह और राज्य पेयजल एवं स्वच्छता मिशन के अधिशासी निदेशक प्रिय रंजन कुमार भी मौजूद रहे।
नदियों की स्वच्छता पर जोर देते हुए जलशक्ति मंत्री ने समीक्षा बैठक में नमामि गंगे के अधिकारियों से यमुना नदी में विशेष सफाई अभियान चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने खास तौर पर आगरा, मथुरा, वृंदावन में नदियों की सफाई पर अधिक ध्यान दिये जोन के लिए कहा है।
जलशक्ति मंत्री ने बुंदेलखंड में जल जीवन मिशन की हर घर नल योजना की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने जिलेवार लग रहे फंक्शनल हाउस होल्ड टैप कनेक्शन (एफएचटीसी) का प्रजेंटेशन भी देखा। जल शक्ति मंत्री श्री स्वतंत्र देव सिंह ने प्रतिदिन दिये जाने वाले पानी के कनेक्शनों की संख्या को बढ़ाने के निर्देश दिये। उन्होंने बुंदेलखंड में हर हाल में दिसम्बर तक हर घर तक जल पहंचाने के काम को पूरा करने के निर्देश दिये। काशी और गोरखपुर समेत प्रदेश भर में चल रही हर घर नल की परियोजनाओं को समय से पहले पूरा करने के लिए कहा। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली

सीतापुर में 19 शिक्षक, शिक्षिकायें बर्खास्त