बाबाओं को राह पूछना पड़ा महंगा

 संत समाज ने जताई नाराजगी

मुंबई: महाराष्ट्र के सांगली जिले में मथुरा के 4 साधुओं की पिटाई का मामला सामने आया है। बुलेरो कार में सवार साधुओं ने स्थानीय लोगों से रास्ता पूछ लिया था और लोगों ने उन्हें बच्चा चोर समझा। यह अफवाह तेजी से इलाके में फैल गई और मौके पर जुटी भारी भीड़ ने उन्हें बुरी तरह पीट डाला। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

      पुलिस का कहना है कि साधुओं की ओर से इस मामले में शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है। लेकिन सोशल मीडिया पर वायरल वीडियोज की जांच करके ऐक्शन लिया जा सकता है। यूपी के रहने वाले 4 साधु सांगली जिले के लवांगा गांव में पहुंचे थे और उन्हें पंधरपुर जाना था।

           एक मंदिर में रात्रि विश्राम के लिए रुक गए थे।  जब आगे की यात्रा पर निकले तो एक लड़के से रास्ता पूछ लिया था। इस दौरान कुछ स्थानीय लोगों को संदेह हुआ कि ये लोग बच्चा चोर गैंग के हैं। इस पर भीड़ जुट गई और साधुओं की कुछ लोगों ने पिटाई कर दी। मौके पर पुलिस ने पहुंचकर जांच की तो पता चला कि वे बच्चा चोर नहीं बल्कि मथुरा के पंचदशनाम जूना अखाड़ा के साधु थे। सांगली के एसपी दीक्षित गेदाम ने कहा कि सांगली में ग्रामीणों द्वारा 4 साधुओं की पिटाई का मामला सामने आया है। स्थानीय लोगों को संदेह था कि वे बच्चा चुराने वाले गैंग के मेंबर हैं।

* बच्चा चोर गैंग समझ 4 साधुओं की बुरी तरह पिटाई ।

* सांगली जिले के लवंगा में चौंकाने वाली घटना ।

* उत्तर प्रदेश के मथुरा से चार साधु कर्नाटक में भगवान के दर्शन के लिए आए थे।

रात के समय गांव के एक मंदिर में रुके थे ।

पुलिस ने साधुओं को छुड़ाया

सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और इन्हें हिरासत में लेते हुए पूछताछ की. पुलिस ने इनसे पूछताछ के बाद बताया कि इन चारों लोगों का बच्चा चोर गिरोह से कोई संबंध नहीं है. ये लोग दर्शन पूजन के लिए जा रहे थे, लेकिन गलतफहमी की वजह से लोगों ने इन्हें बच्चा चोर समझ लिया और पकड़ कर मारपीट की है. इस मामले में पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने सु मोटो लेते हुए आईपीसी की धारा 323 और 324 के तहत मामला दर्ज किया था. पुलिस ने 5 लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया है, जबकि 15 अज्ञात लोगों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है. हालांकि पुलिस का अब तक साधुओं से दोबारा संपर्क नहीं हो पाया है.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्राह्मण वंशावली

सीतापुर में 19 शिक्षक, शिक्षिकायें बर्खास्त